cache-feature

What is the use of Cache Memory 2019?

Hello Friends, in this blog post I am going to explain to you the cache memory, which is related to programming. We will cover the use and working procedure of cache memory.

It is very simple to understand the concept of cache memory, you can easily learn this with the help few real-life examples related to the cache memory. if we take a real-life banking example, when we go to bank then we usually get withdrawal and deposit voucher on the desk as they are most frequently used whole day in the bank, so if bank will assign a resource for doing this then it will be a burden on bank in terms of time and money both.

Whereas NEFT voucher is not kept usually at the common desk in the bank as they are rarely used in a whole day.

So in the similar fashion of programming, if the active portion of program and data are placed in fast small memory, the average memory access time can be reduced, thus reducing the total execution time of the program. Such a fast small memory is called cache memory.

it is placed between the CPU and main memory, as shown in fig 1 below. The cache memory access time is less than the access time of the memory. by a factor of 5 to 10. The cache is the fastest component in the memory hierarchy and approaches the speed of CPU components.

cache-content

The fundamental idea of the organization is that by keeping the most frequently accessed instructions and data in the fast cache memory, the average memory access time will approach the access time of the cache.

Although the cache is only a small fraction of the size of the main memory, a large fraction of memory requests will be found in the fast cache memory because of the locality of reference property of programs.

The basic operation of the cache is as follows. When the CPU needs to access memory, the cache is examined. If the word is found in the cache, it is read from the fast memory. If the word addressed by the CPU is not found in the cache, the main memory is accessed to read the word. A block of words containing the just one accessed is then transferred from the main memory to cache memory.

The block size may vary from one word to 16 words adjacent to the one just accessed. In this way, some data are transferred to cache so that future references to memory find the required words in the fast cache memory.

In the case of any queries, you can write to us at a5theorys@gmail.com we will get back to you ASAP.

Hope! you would have enjoyed this post about the cache memory.

Please feel free to give your important feedbacks in the comment section below.

Have a great time! Sayonara!

overlay-feature

Overlay advantages and disadvantages in programs?

Many years ago people were first confronted with programs that were too big to fit in the available memory. The solution to this problem is usually adopted was to split the program into pieces, and they are also called as overlays.

Overlay() would start running first. When it was done, it would call another overlay, the idea of the overlay is to keep only those instructions and data in memory that are needed at the given time.

When other instructions are needed, they are loaded into the space occupied previously by instructions that are no longer needed. Some overlay system was highly complex, allowing multiple overlays in memory at once.

The overlays were kept on the disk and swapped in and out memory by the operating system, dynamically as needed.

As an example, consider a two-pass assembler. during pass1, it constructs a symbol table, then during pass2, it generates machine language code. we may be able3 to partition such an assembler into pass1 code, pass2 code, the symbol table, and common support routines used by both pass1 and pass2.

Assume that the size of these components are as follows-

Pass1 70KB
Pass2 80KB
Symbol table \20KB
Common routines 30KB

We need 200KB of memory to load everything at once. If there is only 150KB available, we can not run over the process. However, notice that pass 1 and pass2 do not need to be in memory at the same time.

We thus define two overlays- overlay A is a symbol table, common routines, and pass1, and overlay B is the symbol table, common routines, and pass2.

Overlay A needs only 120 KB and overlay B needs 130 KB as shown in Fig1 below. we can now run over assembler in the 150KB of memory. It will load somewhat faster because fewer data need to be transferred before execution starts. But, it will run somewhat slower, due to the extra I/O to read the code for overlay B over the code for overlay A.

overlay-content
Overlays

The code for overlay A and overlay B are kept on disk as absolute memory images and are read by the overlay driver as needed. special relocation and linking algorithms are needed to construct the overlays.

The programmer, on the other hand, must design and program the overlay structure properly. This task can be a major undertaking, requiring complete knowledge of the structure of the program, its code, and its data structures.

Since by definition the program is large – small programs do not need to be overlaid -obtaining a sufficient understanding of the program may be difficult. for these reasons, the use of overlay is currently limited to a microcomputer and other systems that have a limited amount of memory.

In the case of any queries, you can write to us at a5theorys@gmail.com we will get back to you ASAP.

Hope! you would have enjoyed this post.

Please feel free to give your important feedbacks in the comment section below.

Have a great time! Sayonara!

FAT32-feature-img

FAT32 Advantages and Disadvantages?

Hello Friends, In this blog post I am going to let you know about the advantages and disadvantages of the FAT32 file system.

As we know that FAT32 is a file system that you would have seen in the study of the operating system. it is more like a traditional DBMS system where the information is stored in the form of hierarchy.

FAT32 Advantages:

The boot sector is automatically backed up at a specified location on the volume, so FAT32 volumes are less susceptible to single points of failure than FAT16 volumes.

FAT32 is best for cross-compatibility with other platforms. FAT32 is more robust. FAT32 also reduces the resources necessary for the computer to operate.

FAT32 uses small clusters, so it allocates disk space more efficiently than FAT16. Depending on the size of your files, FAT32 creates the potential for tens and even hundreds of megabytes of additional free disk space on larger volumes compared to FAT16.

The root folder of the FAT32 drive is an ordinary cluster chain and can be located anywhere on the volume. For this reason, FAT32 does not restrict the number of entries in the root folder.

FAT32 can automatically use the backup copy of the file allocation table instead of the default copy(with FAT16, only a disk repair tool such as Chkdsk can implement backup.

Disadvantages of the FAT32 file system:

More than one identical copy of FAT is maintained for protection.

There is no built-in file system security or compression scheme with FAT32.

The largest FAT32 volume that windows 2000 can format is 32GB.

FAT32 volumes are not directly accessible from an operating system other than windows 95 OSR2 and windows98.

If you have a startup failure, you can not start the computer by using MS-DOS or windows 95(excluding version OSR2 and later) bootable floppy disk.

In the case of any queries, you can write to us at a5theorys@gmail.com we will get back to you ASAP.

Hope! you would have enjoyed this post about the advantages and disadvantages of the FAT32 file system.

Please feel free to give your important feedbacks in the comment section below.

Have a great time! Sayonara!

disk_scheduling

What Is Disk Scheduling In Hindi? disk scheduling क्या होती है?

हेलो दोस्तों आज के इस ब्लॉग में मै आपको disk scheduling के बारे में बताने वाला हूँ | हो सकता है आपने इसे ऑपरेटिंग सिस्टम विषय के अन्तर्गत पढ़ा हो| multiprogrammed computing सिस्टम में जहाँ पर कई सारे प्रोग्राम एक साथ execute होते है, और यहाँ पर कई सारी processes ऐसी हो सकती है जो की disk रिकॉर्ड को read एवं write करने के लिए request कर रही हो |

और कभी कभी ऐसा होता है कि इन प्रोसेसेज कि request बहुत फास्टर होती है इन्हे सर्विस करने कि स्पीड से, इस बजह से कई बार प्रत्येक डिवाइस के लिए एक waiting queues build हो जाती है |

वैसे आमतौर पर जो request पहले आती है उसे पहले सर्विस किया जाता है | इसके बाबजूद हमें disk scheduling कि जरुरत क्यों पड़ती है ?

कुछ computing सिस्टम इन requests को सामान्यतः फर्स्ट के फर्स्ट सर्वे के बेसिस पर सर्विस करते है| कहने का मतलब जो रिक्वेस्ट पहले आती है, उसे पहले सर्विस दी जाती है, अथवा पूरी तरह से execute होने के लिए रिसोर्स मिलता है |

FCFS एक बहुत ही साफ़ सुथरी प्रक्रिया है रिक्वेस्ट को सर्वे करने के लिए, लेकिन जब request के आने कि दर ज्यादा हो जाती है तब FCFS का उपयोग एक लम्बा वेटिंग टाइम क्रिएट कर देता है जहाँ पर रिक्वेस्ट को एकलम्बा इंतज़ार करना पड़ता है अपने से आगे वाली एक लम्बी request ख़तम होने का, जबकि उसके बाद वाली रिक्वेस्ट बहुत कम execution टाइम कि होती है |

इसलिए FCFS scheduling में generate होने वाली इस समस्या से निजात पाने के लिए हम requests को कुछ अलग तरीके से सर्विस करते है, और इस प्रोसेस को हम disk scheduling कहते है|

इस disk scheduling प्रक्रिया के अंतर्गत हम pending process का बहुत बारीकी से अध्ययन करते है और ऐसी processes को सर्विस देने के लिए सबसे उत्तम विकल्प खोजते है|

disk scheduling के अंतर्गत, डिस्क scheduler सबसे पहले सभी processes के मध्य positional relationship का पता लगाते है इसके बाद इस आधार पर सर्विस queue को रिकॉर्ड किया जाता है, जिससे कि सभी request एक minimum mechanical motion के साथ सर्विस हो सके |

सबसे ज्यादा यूज होने वाली disk scheduling policies निम्नलिखित है |

  • FCFS(first come first serve) disk scheduling.
  • SSTF(shortest seek time first) disk scheduling.
  • SCAN disk scheduling.
  • Circular SCAN(C-SCAN) disk scheduling.
  • LOOK disk scheduling.
  • C-LOOK disk scheduling.

इस ब्लॉग को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते a5theorys@gmail.com पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘Disc Scheduling‘ को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

deadlock-distributed-feature

Deadlock in the distributed operating system in Hindi? डैडलॉक क्या होता है?

हेलो दोस्तों, आज के इस ब्लॉग में मै आपको डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम में होने वाले Deadlock के बारे में बताने जा रहा हूँ | डिस्ट्रिब्यूटेड सिस्टम में deadlock कुछ उसी प्रकार होता है, जैसा कि सिंगल प्रोसेसर सिस्टम में होता है | बस इसमें सबसे बड़ी दिक्कत जो होती है, वो ये होती है कि, इन्हे अवॉयड, prevent और detect करना कठिन होता है | और अगर हमें डेडलॉक के बारे में पता भी चल जाता है तो इसे cure करना बड़ा मुश्किल होता है, क्योकि साडी relevant इनफार्मेशन कई मशीनो में फ़ैल चुकी होती है |

सबसे पहले जो लोग Deadlock नहीं समझते वो समझते वो समझ ले कि डेडलॉक आखिर होता क्या है ?

इस Deadlock को हम बहुत ही सिंपल example से समझते है| deadlock उत्पन्न होता है डिपेंडेंसी के कारण, अगर आप को किसी काम को करने के लिए किसी वस्तु या औजार कि जरुरत है और वो वस्तु और औज़ार किसी और के पास हो तो फिर इस सिचुएशन को deadlock बोलेंगे, क्योकि यहाँ आप का काम एक रिसोर्स पर देपेंद कर गया है जो कि किसी और के पास है | जिस तरह नए घर के निर्माण के समय जब तक छत के लैंटर के लिए बेस नहीं बनता तब तक लाइट वाला लाइट के पाइप नहीं बिछा पता| इस तरह से लाइट वाला depend हो जाता है कारीगर पर|

कुछ लोग इस डिस्ट्रिब्यूटेड Deadlock को दो भागो में बाँट कर देखते है | एक है communication deadlock एंड सेकंड इस resource Deadlock . कम्युनिकेशन Deadlock होने का सिनेरियो देखते है, जब कोई प्रोसेस A प्रोसेस B को मैसेज सेंड करने कि कोशिश कर रही और प्रोसेस B प्रोसेस C को मैसेज भेजने कि कोशिश कर रही है और प्रोसेस C प्रोसेस A को मैसेज भेजने की कोशिश कर रही है | और इस कारण से यहाँ deadlock की सिचुएशन क्रिएट हो जाती है |

और एक resource Deadlock तब होता है जब कोई कुछ प्रोसेसेज किसी I/O डिवाइस , फाइल्स , लॉक्स या अन्य कोई और रिसोर्सेज को यूज करने के लिए लड़ती रहती है |

Deadlock को हैंडल करने के लिए 4 रणनीति निम्नलिख्ति है |

The ostrich algorithm (Ignore the problem )
Detection (allow deadlock to occur, detect them, try to recover)
Prebention (statically make deadlock structurally impossible)
Avoidance(Avoid deadlock by allocating resource carefully)

ये चारो strategies potentially applicable है डिस्ट्रिब्यूटेड सिस्टम के लिए | ऑस्ट्रिच अल्गोरिथम जितनी सिंगल प्रोसेसर सिस्टम के लिए पॉपुलर और अच्छी है उतनी ही वो डिस्ट्रिब्यूटेड सिस्टम के लिए पॉपुलर और अच्छी है | डिस्ट्रिब्यूटेड सिस्टम में प्रोग्रामिंग, ऑफिस ऑटोमेशन, प्रोसेस कंट्रोल और कई सारी एप्लीकेशन में इसका यूज होता है|

Deadlock detection और रिकवरी भी काफी पॉपुलर है | क्योकि prevention अथवा avoidance काफी कठिन पड़ जाते है | deadlock prevention भी पॉसिबल है पर यह सिंगल प्रोसेसर सिस्टम की तुलना में डिस्ट्रिब्यूटेड सस्टम में ज्यादा कठिन होता है | deadlock avoidance का डिस्ट्रिब्यूटेड सिस्टम मेम कभी यूज नहीं किया जाता, यहाँ तक कि इसे सिंगल प्रोसेसर सिस्टम में भी यूज नहीं किया जाता|

इस ब्लॉग को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते a5theorys@gmail.com पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘deadlock in distributed operating system in hindi‘ को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

word-number-truncate-feature

Remove unwanted characters in word file in Hindi? वर्ड(Word) फाइल के एक कॉलम में दिए गए नंबर्स के शुरू के कुछ नंबर्स को हटाना ?

हेलो दोस्तों, आज के इस ब्लॉग में मै आपको एक बहुत ही रोचक चीज़ बताने जा रहा हूँ, जिसका उपयोग आप word फाइल में नंबर्स को truncate करने के लिए कर सकते हो. वैसे इस चीज़ को करने के लिए और भी तरीके हो सकते है, पर अभी मै आपको बहुत ही सिंपल तरीका बताने जा रहा हूँ, जिसका उपयोग आप बिना किसी फार्मूला के कर सकते हो|

मान लीजिये की आप के पास वर्ड(Word File) फाइल में एक टेबल बानी हुई है | और इस टेबल में एक कॉलम आईडी एंटर करने के लिए हो, और आपकी आईडी टोटल 16 डिजिट की हो, और अब आप इस 16 डिजिट की आईडी में से शुरू के 4 डिजिट हटाना चाहते है, जो की हर कॉलम के लिए कॉमन है, जिससे की वो आईडी 12 डिजिट की बन जाये |

कहने का मतलब आपको 16 अंको के दिए नंबर में से शुरू के 4 नंबर हटाने है using word file, पर कैसे?

इसके लिए या तो आप फार्मूला का उपयोग कर सकते है using your word file | या फिर आप नीचे दिए प्रोसीजर को फॉलो कर सकते है |

यह एक बहुत ही आसान प्रक्रिया है, बस आप निचे दिए हुए नियमो का क्रमशः पालन करिये |

सबसे पहले आप उस कॉलम को सेलेक्ट करिये जिसके आगे के 4 डिजिट काटना है| और इसके बाद आप Replace ऑप्शन को सेलेक्ट करिये जैसा की निचे दिए इमेज में दिखाया गया है |

word1
Numbers selection to be truncated
word2
Replace Process

इसके बाद आप पहले कॉलम में पहले 4 नंबर enter करिये जो की सभी दिए गए नंबर्स में कॉमन है और आप इन्हे ही हटाना चाहते है | See the above image for the same.

अब जैसा कि हमारा उद्देश्य है कि हमें सिर्फ ये 4 नंबर्स हटाने है और इनके स्थान पर कुछ भी नहीं रखना है| तो इसके लिए हम दूसरे कॉलम में कुछ में नहीं करेंगे और उसे ऐसे ही छोड़ देंगे, जैसा कि above दिए हुए चित्र में दिखाया गया है|

इसके बाद जैसे ही हम enter प्रेस करते है, वैसे ही हम पाते है कि सभी नंबर्स में से शुरू के 4 नंबर्स मिट गए है | और अब उस कॉलम में सिर्फ 12 डिजिट के नंबर्स बचे है, जैसा कि आप निचे दिए हुए चित्र में देख सकते है |

word3
Result

इस प्रोसेस का एक फायदा यह भी है कि अगर आप एक्सेल में 16 या 17 डिजिट का नंबर इन्सर्ट नहीं कर पा रहे हो कॉपी और पेस्ट के द्वारा तब आप ऐसे नंबर्स को पहले वर्ड(Word File) फाइल में स्टोर कर सकते हो और बाद में उसे इसी प्रोसेस से शार्ट कर सकते हो, उसमे से कुछ कॉमन नंबर हटा कर और बाद में सरे नंबर्स को एक साथ excel शीट में पेस्ट कर सकते हो|

इस ब्लॉग को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते a5theorys@gmail.com पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘Remove unwanted characters or numbers from a large string of number or character in word file’ को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

gmail_feature_img

Important facts about Gmail in Hindi? Gmail के बारे में कुछ रोचक तथ्य?

हेलो दोस्तों, आज के इस ब्लॉग में मै आपको GMAIL के बारे में कुछ रोचक तथ्य बताने वाला हूँ, जो शायद आपको पता हो, या नहीं भी सकते है| जीमेल गूगल का ही एक प्रोडक्ट है, जिसका उपयोग एक मैसेज को एक जगह से दूसरे जगह पहुंचाने के लिया किया जाता है|

जीमेल (Gmail) को गूगल(Google) मेल भी कहा जाता है | जीमेल इसका शार्ट नाम है| Gmail is an email client.

जीमेल(Gmail) को पब्लिक्ली पहली बार 2004 में announce किया गया था | हालांकि इसके शुरआती दौर में लोगो ने इसे मजाक समझा था | पर बाद में जब इसका उपयोग लोगो के बीच बढ़ा तब जाकर लोगो ने इसके महत्व को समझा |

जीमेल(Gmail) को यूज करने के लिए हमें इंटरनेट और कंप्यूटर की जरूररत पड़ती है | और आज कल हम अपने स्मार्ट फ़ोन और इंटरनेट की मदद से भी ईमेल भेज सकते है जीमेल की मदद से |

जीमेल(Gmail) गूगल द्वारा दी जाने वाली एक फ्री सर्विस है जिसका यूज करके आप अपने परिजनों, दोस्तों, ऑफिस कार्यकर्ताओ को अपना सन्देश आसानी से कुछ मिनटों में भेज सकते है , और जबाब में वो भी आपको उसका उत्तर बहुत जल्दी भेज सकते है |

इसकी सबसे बड़ी खूबी यह है कि इसका यूज एक दम फ्री(Free) है , जिसका गूगल किसी से कोई चार्ज नहीं लेता | आपको सिर्फ अपना अकाउंट बनाना पड़ता है गूगल में और आप जीमेल का उपयोग चालू कर सकते हो |
यहाँ तक कि आप गूगल द्वारा दी जाने वाली और उत्पादों कि सुविधा का भी आनंद ले सकते है , जैसे कि गूगल ड्राइव, यूट्यूब इत्यादि |

जैसा कि मैंने आपको बताया गूगल आपसे अकाउंट बनाने और जीमेल(Gmail) को यूज करने का कोई पैसा नहीं लेता है | और वो आपको बहुत साडी साडी डाटा स्टोरेज मेमोरी देता है आपके मेल स्टोर करने के लिए जो कि गीगाबाईट्स में रहती है , जो कि एक नार्मल यूजर के लिए बहुत ज्यादा होती है | और उसे कभी ऐसी स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता है कि उसका मेलबॉक्स फुल हो गया हो और वो अपना ईमेल रिसीव न कर पा रहा हो| but अगर किसी को जब ज्यादा ही स्टोरेज और ईमेल भेजने कि जरुरत पड़ती है तब गूगल उसका कुछ चार्ज लेता है | पर ये सब उनके लिए है, जो लोग गूगल को अपने बिज़नेस ईमेल कि तरह यूज करते है|

जीमेल(Gmail) के बारे में एक और रोचक तथ्य यह है कि , अगर आप जीमेल को 9 महीने लगातार यूज भी नहीं करते तब भी आपका अकाउंट डीएक्टिवेट नही होगा, वही ज्यादातर सर्विस में आपको 30 दिन के नादर एक बार लॉगिन जरूर करना पड़ता है , नहीं तो आपका अकाउंट डीएक्टिवेट कर दिया जाता है|

जीमेल(Gmail) के स्पैम टेक्नोलॉजी होती है जिससे कि वह स्पैम जैसे लगने वाले ईमेल को एक अलग स्पैम फोल्डर में रख देता है जिससे आपको उस मैसेज को पढ़ने कि जरुरत नहीं पढ़ती, हालांकि आप चाहे तो स्पैम फोल्डर के मैसेज रीड कर सकते है | यह आप पर डिपेंड करता है| कभी कभी सही मैसेज भी गलत फ्लैग मार्क्स होने के कारण स्पैम फोल्डर में चला जाता है |

जीमेल(Gmail) की मदद से आप ऑटो- रिप्लाई मैसेज भी सेट कर सकते हो | यह तब ज्यादा जरुरी हो जाता है जब आप जीमेल का उपयोग अपने बिज़नेस के लिए कर रहे हो | ऐसी स्थिति में जब आप हॉलीडे पर होते है तो आप एक जनरल रिप्लाई मैसेज सेट कर सकते है, जैसी कि ‘मै अभी ३ दिन के लिए अवकाश पर हूँ, और वापस आकर मै आपसे संपर्क करूँगा’ |

जीमेल(Gmail) पर आने वाले ईमेल को आप फ़िल्टर कर अलग अलग फोल्डर में रख सकते है| जैसे कि आप अपनी दो सर्विस अथवा प्रोडक्ट वेबसाइट चलाते है जिनका नाम ‘ABC’ और ‘XYZ’ है | ऐसी स्थिति में आप दोनों वेबसाइट के नाम से अलग फोल्डर क्रिएट कर सकते हो | और इससे आप दोनों वेबसाइट के लिए अलग अलग फोल्डर में ईमेल डाइवर्ट एकत्रित कर सकते हो| स्टार्टिंग में आपको थोड़ा मुश्किल हो सकती है पर बाद में सब सही हो जाता है | आप फोल्डर को अलग अलग कलर भी दे सकते हो, जिससे ईमेल को identify करना और भी आसान हो जाता है|

जीमेल(Gmail) से सम्बंधित कुछ और ब्लॉग जिन्हे आप पढ़ना चाहे, की लिंक नीचे दी हुई है |

जीमेल(Gmail) में प्रोफाइल पिक्चर और सिग्नेचर कैसे सेट करते है ?

जीमेल(Gmail) में लेबिल को बनाया और मैनेज कैसे किया जाता है ?

जीमेल(Gmail) SMTP सेटअप कैसे किया जाता है ?

जीमेल(Gmail) में ईमेल के पढ़े जाने या देखे जाने का पता कैसे चलता है ?

जीमेल(Gmail) के सारे कॉन्टेक्ट्स CSV फाइल में कैसे एक्सपोर्ट करते है ?

इस ब्लॉग को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते a5theorys@gmail.com पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘interesting facts about Gmail(Google mail) service’ को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

software-maintenance-feature-img

Software Maintenance Issues & Problem in Hindi? सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस मुद्दा और दिक्कते हिंदी में

हेलो दोस्तों, आज के इस ब्लॉग में मै आप सभी के साथ सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस(Software Maintenance)के मुद्दे को डिसकस करने वाला हूँ| जैसा की आप सभी लोग जानते है कि, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट लाइफ साइकिल का सबसे आखिरी फेज मेंटेनेंस(Software Maintenance)होता है जहा पर हमें सॉफ्टवेयर में होने वाले अपडेट और एक्सिस्टिंग फंक्शनलिटी में होने वाली प्रॉब्लम को सही करना पड़ता है | इस सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस को हम कुछ हिस्सों में डिवाइड कर सकते है | सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस(Software Maintenance)में होने वाले प्रमुख मुद्दे निम्नलिखित है |

इस सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस को हम कुछ हिस्सों में डिवाइड कर सकते है | सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस(Software Maintenance)में होने वाले प्रमुख मुद्दे निम्नलिखित है |

Issues in Software Maintenance:

software-maintenance-issues
Issues In Software Maintenance

टेक्निकल: Technical

सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस(Software Maintenance) के तहत यह सबसे प्रमुख मुद्दा है| टेक्निकल मुद्दा कुछ इन बातों पर depend करता है जैसे कि सिस्टम कि सिमित समझ, टेस्टिंग, इम्पैक्ट एनालिसिस, maintainability |

मैनेजमेंट: Management

मैनेजमेंट issue में include होता है , ओर्गनइजेशनल issue , स्टाफिंग प्रॉब्लम, प्रोसेस issue , ओर्गनइजेशनल स्ट्रक्चर, आउटसोर्सिंग |

कॉस्ट एस्टिमेशन: Cost Estimation

सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस(Software Maintenance) प्रोसेस में यह एक बड़े और प्रमुख मुद्दों में से एक है | यह मुद्दा कॉस्ट और प्रोजेक्ट एक्सपीरियंस पर depend करता है|

सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस मेज़रमेंट: Software maintenance measurement

सॉफ्टवेयर मेज़रमेंट फैक्टर जैसे कि साइज एफर्ट, schedule , क्वालिटी, understandability , रिसोर्स यूटिलाइजेशन, डिज़ाइन complexity , रिलायबिलिटी एंड फाल्ट टाइप डिस्ट्रीब्यूशन.

सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस कि प्रमुख समस्याएं: Problems in Software Maintenance

सॉफ्टवेयर में जो भी बदलाव होते रहते है उनका ठीक तरह से डॉक्यूमेंटेशन नही किया जाता है| इसकी बजह से सॉफ्टवेयर के क्रमागत उन्नति को ट्रेस कर पाना मुश्किल हो जाता है जब सॉफ्टवेयर के बहुत सरे रिलीज़ अथवा versions आ जाते है| this cause creates problem in software maintenance.

कई बार तो सॉफ्टवेयर कि उस प्रोसेस का पता लगाना मुश्किल पड़ जाता है जिससे उसे बनाया गया था |

सॉफ्टवेयर मेंटेनेंस प्रोसेस में सबसे बड़ी मुश्किल तब होती है, जब हमें दूसरे के लिखे प्रोग्राम को समझना पड़ता है |
बहुत सरे सॉफ्टवेयर में बदलाव कि कोई गुंजाइस नहीं होती या फिर वो किसी बदलाव के लिए बनाये ही नहीं जाते| उन्हें तो सिर्फ रिडिजाइन किया जाता है |

सॉफ्टवेयर में unstructured कोड होते है |

जो मेंटेनेंस(Software Maintenance)करने वाले प्रोग्रामर होते है, उन्हें सिस्टम अथवा प्रॉब्लम डोमेन कि पूरी जानकारी ही नहीं होती.

सॉफ्टवेयर का प्रयाप्त डॉक्यूमेंटेशन नहीं होता|

ज्यादातर डेवेलपर्स को मेंटेनन्स(Software Maintenance)का काम ही पसंद नहीं होता|

इस ब्लॉग को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते a5theorys@gmail.com पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘software Maintenance and problems in software maintenance’को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

requirement_engineering_fetureimg

What is Requirement engineering in Hindi& Requirement analysis?रेक्विरेमेंट इंजीनियरिंग क्या होता है?

हेलो दोस्तों आज के इस ब्लॉग में मै आपको रेक्विरेमेंट इंजीनियरिंग(requirement engineering)और रेक्विरेमेंट एनालिसिस (Requirement Analysis)के बारे में बताने वाला हूँ | जो कि SDLC का पहला फेज होता है| इस फेज में सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट करने के लिए जानकारी एकत्रित करते है | रेक्विरेमेंट इंजीनियरिंग(requirement engineering) में principles का सिस्टेमेटिक यूज है |

इसमें techniques एवं tool है जो कि काम आते है एक कॉस्ट इफेक्टिव एनालिसिस के लिए | इसमें डॉक्यूमेंटेशन और यूजर की जरुरत है | सॉफ्टवेयर इंजीनियर एंड कस्टमर दोनों ही एक एक्टिव role अदा करते है इस रेक्विरेमेंट इंजीनियरिंग (requirement engineering) में | कहने का मतलब की रेक्विरेमेंट इंजीनियरिंग(requirement engineering) में दोनों की भागीदारी सक्रिय रहती है |

रेक्विरेमेंट इंजीनियरिंग(requirement engineering) क्या होता है?

रिक्वायरमेंट्स(requirement engineering)एक तरह से विस्तृत लेखा जोखा होता है सिस्टम की सर्विस का और कुछ बाध्यताओं का जो की रेक्विरेमेंट इंजीनियरिंग प्रोसेस के दौरान एकत्रित की जाती है |

रेक्विरेमेंट(requirement) क्या है ?

रेक्विरेमेंट(requirement) किसी सर्विस अथवा सिस्टम constraint की हाई लेवल abstract statement से डिटेल मैथमेटिकल functional specification तक रेंज कर सकती है |

रेक्विरेमेंट(requirement) को हमेशा इंटरप्रिटेशन के लिए ओपन होना ही चाहिए, और रेक्विरेमेंट हमेशा डिटेल में होनी चाहिए|

रेक्विरेमेंट(requirement) के प्रकार निम्नलिखित है

requirement_type
Types of Requirement

यूजर रेक्विरेमटंस: User Requirement

यह यूजर के द्वारा दिए हुए स्टेटमेंट का कलेक्शन होता है, जिसमे ली जाने वाली सर्विस का डिस्क्रिप्शन भी होता है |

सिस्टम रिक्वायरमेंट्स: System Requirement

यह सिस्टम द्वारा दी जाने वाली सर्विस का विस्तृत वर्णन होता है | कुल मिलाकर यह क्लाइंट और कांट्रेक्टर के बीच का अनुबंध होता है |

सॉफ्टवेयर स्पेसिफिकेशन: Software Specification

यह सॉफ्टवेयर के डिज़ाइन और इम्प्लीमेंटेशन के बारे में डिटेल्ड जानकारी होती है जो की स्पेशली डेवेलपर्स के लिए उपलब्ध कराई जाती है|

रोल ऑफ़ रेक्विरेमेंट एनालिसिस: Role of requirement Analysis

रेक्विरेमेंट (requirement Analysis) एनालिसिस सिस्टम इंजीनियरिंग और सॉफ्टवेयर डिज़ाइन के बीच का फेज होता है |

रेक्विरेमेंट(requirement Analysis) एनालिसिस से हमें सॉफ्टवेयर स्पेसिफिकेशिन के बारे में जानकारी मिलती है |

रेक्विरेमटंस(requirement Analysis) एनालिसिस किस तरह से मददगार होता है?

एनालिस्ट : Analyst

रेक्विरेमेंट एनालिसिस एनालिस्ट के लिए बहुत बड़ी हेल्प होती उसे सॉफ्टवेयर एलोकेशन को refine करने में, इसी एनालिसिस के बेस पर एनालिस्ट कई प्रकार के सॉफ्टवेयर मॉडल्स डिफाइन करता है जैसे कि ‘डाटा मॉडल्स’ , ‘फंक्शनल मॉडल’, ‘बिहेवियरल मॉडल’ |


डिज़ाइनर: Designer

रेक्विरेमेंट को एनालिसिस करने के बाद ही डिज़ाइनर डाटा आर्किटेक्चरल इंटरफ़ेस और कॉम्पोनेन्ट लेवल डिज़ाइन कर सकता है |

डेवलपर: Developer

रेक्विरेमेंट स्पेसिफिकेशनऔर डिज़ाइन कम्पलीट होने के बाद ही सॉफ्टवेयर डेवेलप होना चालू जो सकता है |

इस ब्लॉग को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते a5theorys@gmail.com पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘requirement or requirement engineering and requirement analysis’ को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

whiteboxtesting

White Box Testing in Hindi? वाइट बॉक्स टेस्टिंग क्या है हिंदी में?

हेलो दोस्तों आजके इस ब्लॉग में मै आपको वाइट बॉक्स टेस्टिंग(white Box Testing) के बारे में बताने जा रहा हूँ | वैसे अगर अप्प टेक्निकल फील्ड से है तो टेस्टिंग के बारे में जरूर जानते होंगे या सुना तो जरूर होगा| अगर अपने नहीं भी पढ़ा और सुना है तो कोई चिंता की बात नहीं | हम यहाँ आपको सब कुछ बताएँगे टेस्टिंग के बारे में |

टेस्टिंग(testing) एक सामान्य शब्द है जिसका मतलब होता है किसी भी चीज़ का परिछण करना या फिर उसे चेक करना| यह चेकिंग एक्सटर्नल और इंटरनल दोनों तरह से हो सकती है | जैसे की उदाहरण के लिए, जैसे की गर्मी के सीजन में जब हम कूलर खरीदने के लिए जाते है तो सबसे पहले हम उसकी बॉडी देखते है की मजबूत है की नहीं या फिर कही से टूटी फूटी तो नहीं, यह हो जाती है |

बाहरी टेस्टिंग और फिर हम उस कूलर का मोटर और फैन चला कर चेक करते है या फिर कहे कि हम उसकी मेन वर्किंग टेस्ट करते है | और अगर सब कुछ सही होता है तो हम उस कूलर को खरीद लेते है | The concept of white box testing is also related with this example.

बस कुछ इसी तरह सॉफ्टवेयर के केस में भी होता है | वाइट बॉक्स टेस्टिंग (white Box Testing) उसका एक प्रकार है जिसका विवरण निम्नलिखित है|

वाइट बॉक्स टेस्टिंग (white Box Testing) एक ऐसी टेस्टिंग प्रक्रिया है, जिसमे सॉफ्टवेयर और सॉफ्टवेयर प्रोसीजर का बहुत बारीकी से अवलोकन किया जाता है | इस वाइट बॉक्स टेस्टिंग (white Box Testing) को गिलास बॉक्स टेस्टिंग(Glass Box Testing) भी कहा जाता है|

वाइट बॉक्स टेस्टिंग (white Box Testing) में जो टेस्ट केस बनते है वो निम्नलिखित चीज़ो को पता अथवा examine करने के लिए बनते है|

सभी independent path का examine करने के लिए जो की मॉड्यूल का हिस्सा है|


सभी logical path को देखना और उनके सही या गलत होने का पता लगाना |


सभी लूप को चेक करना एक सिमित दायरे में रह कर और उनके operational सीमा के अंदर|

हमें वाइट बॉक्स टेस्टिंग (white Box Testing) की जरुरत क्यों होती है?


वाइट बॉक्स टेस्टिंग (white Box Testing) को परफॉर्म करने तीन प्रमुख कारण निम्नलिखित है|

एक केस यह हो सकता है कि प्रोग्राम को डिज़ाइन और इम्प्लीमेंट करते टाइम प्रोग्रामर ने कोई गलत assumption किये हो, जिसके कारण से प्रोग्राम में लॉजिकल errors हो सकती है | ऐसी लॉजिकल errors को डिटेक्ट करना और उन्हें सही करने के लिए हमें पुरे प्रोसीजर कि डिटेल्स को examine करना जरुरी है | इसलिए ऐसी सिचुएशन में हमें वाइट बॉक्स मॉडल (white Box Testing) का यूज करना पड़ता है |

फ्लो ऑफ़ कंट्रोल और डाटा को लेकर प्रोग्रामर किये गए assumption के कारण कभी कभी डिज़ाइन में errors हो सकती है | ऐसी स्थिति में वाइट बॉक्स मॉडल (white Box Testing) का यूज करना बहुत ही जरुरी हो जाता है|

ऐसी बहुत सी टाइपोग्राफ़िकल गलतिया हो सकती है, जिन्हे सिंटेक्स एंड टाइप चेकिंग प्रोसेस से गुजरने के बाद भी नहीं पकड़ा जा सका | ऐसी गलतिया वाइट बॉक्स (white Box Testing) चेकिंग के दौरान दूर हो सकती है|

इस ब्लॉग को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते a5theorys@gmail.com पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘White box Testing‘ को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|