Earth Atmosphere Layers In Hindi.

हेलो दोस्तों आज के इस ब्लॉग पोस्ट(Earth Atmosphere Layers In Hindi) में हम एक बहुत ही इंटरेस्टिंग कांसेप्ट के बारे में पढ़ने जा रहे है | और यह कॉन्सेप्ट्स है earth atmosphere layers का|

दोस्तों आप में से बहुत से लोगो को जो कि साइंस अथवा फिजिक्स में इंटरेस्ट रखते है उनके के लिए यह ब्लॉग बहुत ही उपयोगी होने वाला है |Earth Atmosphere Layers In Hindi|

दोस्तों अक्सर आपके मन में यह प्रशन जरूर आता होगा कि earth surface के ऊपर क्या है ?|Earth Atmosphere Layers In Hindi|

क्या यह सिर्फ सफ़ेद बादल है जो कि हमें surface से दिखाई देते है? और इसके बाद सीधे अंतरिक्ष कि सीमा स्टार्ट हो जाती है ?|Earth Atmosphere Layers In Hindi|

या फिर अंतरिक्ष और earth surface के बीच में बहुत सारी layers होती है जिन सब से मिलकर earth का atmosphere बनता है |

तो दोस्तों आज के इस ब्लॉग में हम आपको इसी के बारे में विस्तार से बताने वाले है |

earth atmosphere layers in hindi
earth atmosphere layers in hindi

हमारे earth का जो atmosphere है उसे मुख्य रूप से चार layers अथवा spheres में बाटा गया है | और इन चारो layers का अपना अपना temperature और characteristic होती है जो कि altitude बढ़ने के साथ साथ बदलती जाती है |

इन चार layers के characteristic निम्नलिखित है :

Troposphere :

earth से बिलकुल लगी हुई यह पहली atmosphere लेयर होती है और इसकी रेंज 0 से 15 km . होती है | यह लेयर earth surface के ऊपर पहली लेयर होती है और यह लेयर earth atmosphere का लगभग 85 से 90 % mass को contain करती है |

और इस लेयर की characteristic यह होती है कि थोड़ी ऊंचाई बढ़ने के साथ ही temperature में कमी आने लगती है |

Stratosphere :

Stratosphere जो है वो earth surface के ऊपर दूसरी लेयर होती है और इसकी रेंज जो है वो 15 से 50KM . होती है | और इस लेयर में हाइट के साथ temperature बढ़ता है |

और इसके गरम होने की वजह यह है कि इसी layer में ओजोन लेयर के द्वारा सोलर रेडिएशन को absorb किया जाता है और एक बहुत बड़े पैमाने पर ultravilot रेडिएशन को earth पर पहुंचने से रोका जाता है |

Mesosphere :

Mesosphere जो है वो earth की अगली लेयर होती है और इस लेयर की रेंज जो है वो 50 से 90km . होती है | और इस लेयर में ऊपर जाने पर temperature बहुत ही काम हो जाता है और average की बात करें तो टेम्परेचर -90 डिग्री तक रहता है |

और बहुत से meteors जो है वो स्पेस से earth atmosphere में एंटर करते समय इसी लेयर में burn हो जाते है |

Thermosphere :

और इसके बाद जो लेयर आती है वो है Thermosphere और इस लेयर पर जो है वो temperature altitude के साथ स्थिरता से increase होता जाता है |

Thermosphere के अंदर ionosphere होता है | इस ionosphere में चार्ज particles होते है जहाँ पर स्पेशलय auroras (ध्रुवीय ज्योति) होता है |

Exosphere

Exosphere जो है वो earth की upper लिमिट होती है और इस लेयर में earth atmosphere और space merge होते है |

इस ब्लॉग(Earth Atmosphere Layers In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

Quick Q&A:

What layer do planes fly? एअर्थ अट्मॉस्फेरे कि कौन सी लेयर में एयरप्लेन उड़ता है?

जो कमर्शियल जेट एयरक्राफ्ट होते है वो lower staratosphere में उड़ते है | और इस जगह पर उड़ कर वो turbulence को रोक पातें है जो कि troposphere में common है |

Stratosphere की जो एयर होती है वो बहुत ही ड्राई होती है और इसमें बहुत ही काम मात्रा में water वेपर होते है | इसलिए इस लेयर में कभी कभार क्लाउड्स देखे जा सकते है |

नहीं तो सारे क्लाउड्स जो है वो इसके नीचे वाले लेयर troposphere में होते है जहाँ पर atmosphere में बहुत humid होती है |

What layer is the ozone in? earth atmosphere की कौन सी लेयर में Ozone layer प्रेजेंट रहती है?

earth atmosphere में ओजोन जो है वो stratosphere लेयर में मौजूद रहती है | और यह earth surface से ऊपर 15 से 30 कम. की रेंज में रहती है |

ओजोन जो है वो एक molecule होता है जिसमे ऑक्सीजन के तीन atoms रहते है | और एक निश्चित समय में यह ओजोन molecules टूटते और सतत बनते रहते है |

What is the hottest layer? earth atmosphere में सबसे गरम लेयर कौन सी होती है ?

earth की जो inner core होती है वो सबसे hottest लेयर होती है |

Why is the troposphere called the troposphere? troposphere को हम troposphere क्यों कहते है ?

एक्चुअली ‘Tropos ‘ वर्ड का मीनिंग होता है चेंज, तो यह लेयर earth atmosphere की सबसे पहली लेयर होती है जो कि earth सरफेस के बाद कुछ km पर चालू होती है |

और इस लेयर में हर कुछ दूरी के बाद कुछ gaseous चेंज देखने को मिलते है और यह चेंज constantly होते रहते है | बस इसी वजह से इस लेयर का नाम troposphere रख दिया गया|

What happens in the mesosphere? mesosphere में क्या होता है ?

mesosphere लेयर में हाइट बढ़ने के साथ ही temperature घटने लगता है | क्योकि यहाँ पर सोलर absorbtion काम होता जाता है | और CO2 rediative एमिशन के कारन cooling बढ़ती जाती है जिससे temperature काम होता जाता है |

What is the coldest atmosphere layer? सबसे जायदा ठंडी atmospheric layer कौन सी होती है?

सबसे ठंडी लेयर होती है mesosphere जो कि हाइट के साथ ठंडी होती जाती है| यह लेयर stratosphere के ऊपर होती है और Thermosphere के नीचे होती है | और यह layer हमारी earth surface से ऊपर 50 से 85 km . की रेंज में होती है |

Why is the thermosphere so hot? Thermosphere सबसे ज्यादा गरम क्यों होता है ?

जैसा कि आप इसके नाम से ही समझ सकते है थर्मो यानि heat , इस लेयर का temperature बहुत हाई होता है और यह लगभग 1800 डिग्री सेल्सियस होता है | और इस लेयर में air बहुत thin होती है |

यह लेयर इतनी ज्यादा गरम इसलिए होती है क्योकि यह सबसे पहले सूर्य किरणों के कांटेक्ट में आती है| और फिर नाइट्रोजन और ऑक्सीजन molecules जो है वो इस एनर्जी को heat में कन्वर्ट कर देते है |

हलाकि एक मजे की बात यह है कि इस लेयर में इतना temperature होने पर भी आप इस लेयर में जायदा गर्म फील नहीं करेंगे|

Troposphere हमारे लिए क्या करता है ?

यह earth atmosphere की सबसे पहली और करीबी लेयर होती है | यह लेयर हमें breath करने के लिए ऑक्सीजन प्रोवाइड करती है | यह लेयर earth का temperature रहने लायक बनाये रखती है | और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह लेयर weather के होने के लिए responsible होती है |

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट(Earth Atmosphere Layers In Hindi) को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|Earth Atmosphere Layers In Hindi|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.

Leave a Reply

Your email address will not be published.