Computer Hardware और Software में क्या अंतर है?|Difference between computer hardware and software in Hindi?

hello दोस्तों आज के इस ब्लॉग पोस्ट(Difference between computer hardware and software in Hindi) में हम आपको Computer Hardware और Computer Software के बीच में अंतर को बताने वाले है | दोस्तों जब भी कोई कंप्यूटर पढ़ने की शुरुआत करता है तो उसे सबसे पहले यही Computer Hardware और Computer Software के बारे में पढ़ाया जाता है |

यह कंप्यूटर का सबसे बेसिक पार्ट है और सभी कंप्यूटर जानने वालो को इससे अवेयर होना चाहिए | तो दोस्तों Computer Hardware और Software में अंतर बताने से पहले हम आपको Computer Hardware और Computer Software की संछिप्त definition बता देते है |Difference between computer hardware and software in Hindi|

hardware-softwares-contentimg
Difference between computer hardware and software in Hindi

Computer Hardware क्या होता है ?|Difference between computer hardware and software in Hindi?

दोस्तों कंप्यूटर में ऐसे कोई भी चीज़ जिसे आप देख या छू सकते अथवा अनुभव कर सकते है | ऐसे सभी वस्तु Computer Hardware में आती है | Hardware का physical existence होता है और आप इन्हे आराम से टच कर सकते है |Difference between computer hardware and software in Hindi|

अब बात आती है की कंप्यूटर में ऐसे कौन सी चीज़ होती है जो हार्डवेयर में आती है ?

तो दोस्तों कंप्यूटर में वो सभी चीज़ जो हम देख अथवा छू पा रहे है वो सभी हार्डवेयर में आती है जैसे कि :

Monitor
CPU
Mouse
keyboard

तो मोटा मोटी ये चार Hardware वो है जिन्हे हम सीधे सीधे सामने देख सकते है | और इसके अलावा कुछ Hardware CPU के अंदर built होता है जैसे कि

Hard disk
Motherboard
RAM
ROM

तो दोस्तों यहाँ पर आपको Computer Hardware तो अच्छे से समझ आ गया होगा | अब हम Computer Software के बारे में देखते है |

computer-hardware-and-computer-software
Difference between computer hardware and software in Hindi

Computer Software क्या होता है ?

दोस्तों Computer Software और कुछ नहीं programs होते है जो सिस्टम को चलने और सिस्टम के अंदर काम करने में हमारी मदद करते है |

Software को हम आँखों से देख सकते है और use कर सकते है पर टच नहीं कर सकते है क्योकि यह फिजिकली exist नहीं करता है | यह तो बस एक कोड होता है जिससे हम हार्डवेयर को ऑपरेट करते है | और कंप्यूटर पर अपने काम को आसानी से कर पाते है |

दोस्तों Computer Software भी दो प्रकार के होते है |

System Software
Application Software

System Software :

System Software कुछ स्पेशल प्रोग्राम होते है जो की हमारे कंप्यूटर को अथवा उसके हार्डवेयर को ऑपरेट करने के लिए बनाये जाते है |

और यही System Software की मदद से हमारा सिस्टम बूट होता है और हमें एक GUI प्रदान करता है जहाँ पर application softare की मदद से हम सिस्टम में कुछ काम कर पाते है | System Software का main काम हमारे Hardware को अच्छी तरह से चलाने का होता है |

System software के example निम्नलिखित है :

OS – MAC, Windows, Linux, Android, etc |

Application Software :

user के लिए जो सबसे उपयोगी सॉफ्टवेयर होते है वो होते है application Software | यह Software हमने सिस्टम में कुछ भी काम करने के लिए मदद करते है |

जैसे की आपको word अथवा excel पर काम करना है तो आप Ms Office Software का use करके अपना काम कर सकते है |

और यदि आपको गेम खेलना है तो आप कोई भी gaming Software को अपने सिस्टम में इनस्टॉल करके आसानी से गेम खेल सकते है |

और इसी प्रकार आप अपने सिस्टम को secure बनाने के लिए कोई भी Antivirus Software को अपने सिस्टम में इनस्टॉल कर सकते है |

आप अपने ऑफिस के काम के लिए कोई भी ऑफिस स्पेसिफिक सॉफ्टवेयर को सिस्टम में इनस्टॉल करके अपने ऑफिस के काम को आसानी से कर सकते है |

तो ऐसे बहुत सारे application Software होते है जिन्हे use करके आप कई तरह के task perform कर सकते है| application Software के कुछ example निचे दिए गए है |

Ms Office
notepad
Games
Antivirus
VLC
Firefox, chrome, safari (Browser)

तो दोस्तों यहाँ तक हमने application Software और System software के बारे में बहुत कुछ जान लिया है | अब आपको इनके बीच में डिफरेंस करने में आसानी होगी | चलिए तो अब हम System software और application Software के बीच में difference को देखते है |

Difference between computer hardware and software in Hindi:

Hardware जो है वो कंप्यूटर का फिजिकल पार्ट होता है जो कि ensure करता है की डाटा को कैसे process करना है |

Software जो होते है वो कुछ instructions अथवा code होते है जो की बताते है कि exactly कौन से टास्क को परफॉर्म करना है | और उन्हें यूजर के लिए परफॉर्म भी करते है |

कंप्यूटर हार्डवेयर को मैन्युफैक्चर्ड किया जाता है |

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को डेवेलोप अथवा इंजीनियर किया जाता है |

हार्डवेयर सॉफ्टवेयर के बिना कोई भी टास्क परफॉर्म नहीं कर सकता है |

सॉफ्टवेयर बिना हार्डवेयर के एक्सेक्यूटे नहीं हो सकता है |

हार्डवेयर फिजिकल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस होती है जिन्हे हम छू और देख सकते है |

जबकि कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को हम देख और उपयोग कर सकते है पर उन्हें टच नहीं कर सकते है |

कंप्यूटर हार्डवेयर में चार main डिवाइस होती है इनपुट, आउटपुट, स्टोरेज और इंटरनल devices |

और कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को mainly सिस्टम सॉफ्टवेयर, प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर, और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में डिवाइड किया जाता है |

हार्डवेयर जो है वो कंप्यूटर वायरस से effected नहीं होते है |

सॉफ्टवेयर कंप्यूटर वायरस से effected हो जाते है |

हार्डवेयर को इलेक्ट्रिकली नेटवर्क के द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान पर ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है |

सॉफ्टवेयर को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ट्रांसफर किया जा सकता है |

अगर हार्डवेयर damaged हो जाता है तो इसे एक दूसरे नए हार्डवेयर से replace करना पड़ता है |

जबकि अगर कोई सॉफ्टवेयर damaged हो जाता है तो फिर हम उसकी backup कॉपी को दुबारा से re -install कर सकते है |

Hardware के example होते है , CPU, Monitor , Mouse, keyboard , हार्डडिस्कक, RAM , ROM, Printer , etc |

Software के एक्साम्प्ले होते है Ms Office , notepad , फोटोशॉप, My SQL |

Difference between computer hardware and software in hindi In tabular form:

Computer HardwareComputer Software
Hardware जो है वो कंप्यूटर का फिजिकल पार्ट होता है जो कि ensure करता है की डाटा को कैसे process करना है |Software जो होते है वो कुछ instructions अथवा code होते है जो की बताते है कि exactly कौन से टास्क को परफॉर्म करना है | और उन्हें यूजर के लिए परफॉर्म भी करते है |
कंप्यूटर हार्डवेयर को मैन्युफैक्चर्ड किया जाता है |कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को डेवेलोप अथवा इंजीनियर किया जाता है |
हार्डवेयर सॉफ्टवेयर के बिना कोई भी टास्क परफॉर्म नहीं कर सकता है |सॉफ्टवेयर बिना हार्डवेयर के एक्सेक्यूटे नहीं हो सकता है |
हार्डवेयर फिजिकल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस होती है जिन्हे हम छू और देख सकते है |जबकि कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को हम देख और उपयोग कर सकते है पर उन्हें टच नहीं कर सकते है |
कंप्यूटर हार्डवेयर में चार main डिवाइस होती है इनपुट, आउटपुट, स्टोरेज और इंटरनल devices |और कंप्यूटर सॉफ्टवेयर को mainly सिस्टम सॉफ्टवेयर, प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर, और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में डिवाइड किया जाता है |
हार्डवेयर जो है वो कंप्यूटर वायरस से effected नहीं होते है |सॉफ्टवेयर कंप्यूटर वायरस से effected हो जाते है |
हार्डवेयर को इलेक्ट्रिकली नेटवर्क के द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान पर ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है |सॉफ्टवेयर को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ट्रांसफर किया जा सकता है |
अगर हार्डवेयर damaged हो जाता है तो इसे एक दूसरे नए हार्डवेयर से replace करना पड़ता है |जबकि अगर कोई सॉफ्टवेयर damaged हो जाता है तो फिर हम उसकी backup कॉपी को दुबारा से re -install कर सकते है |
Hardware के example होते है, CPU, Monitor, Mouse, keyboard, हार्डडिस्कक, RAM, ROM, Printer, etc |Software के एक्साम्प्ले होते है Ms Office , notepad , फोटोशॉप, My SQL |
Difference between computer hardware and software in hindi

Conclusion:

तो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(Difference between computer hardware and software in Hindi) में हमने Computer Hardware , Computer Software के बारे में विस्तार से हिंदी में अध्यन किया | और हमने यहाँ पर Hardware और Software के बीच में डिफरेंस को tabular फॉर्म में देखा और समझा कि हार्डवेयर सॉफ्टवेयर से कैसे अलग होते है | Computer Hardware जो है उनका फिजिकल एक्सिस्टेंस होता है और कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का फिजिकली एक्सिस्टेंस नहीं होता है | बस हम उन्हें देख और use कर सकते है | जबकि कंप्यूटर हार्डवेयर को हम टच भी कर सकते है |

इस ब्लॉग(Difference between computer hardware and software in Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट(Difference between computer hardware and software in Hindi) को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|Difference between computer hardware and software in Hindi|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *