Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi?/ Difference between classful and classless addressing?/ Classless addressing और Classful addressing में क्या difference होता है?

Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi: Hello Friends, आज के इस ब्लॉग पोस्ट में मैं आपको Classful and Classless addressing(Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi) के बारे में बताने जा रहा हूँ | यह दोनों ही IP addressing technique है जो कि इंटरनेट के माध्यम से communication करने के काम आती है | इस ब्लॉग में हम देखेंगे कि यह IP एड्रेसिंग क्या होती है और यह कंप्यूटर नेटवर्क को establish करने में किस तरह से हमारे काम आती है |

आज के इस ब्लॉग(Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi) में हम IP addressing(Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi) से related बहुत ही अच्छे और महत्वपूर्ण प्रश्नो को discuss करेंगे जैसे कि What is the difference between classful and classless addressing? What is Classful addressing…

…What are the advantages of classless addressing over Classful addressing? What is a Classful subnet mask? Is Classful addressing still used? What is classless and classful routing? What is IP classless command?..

….What is isipv4? What is IP subnetting? What are IPv4 and IPv6? What is the meaning of Vlsm? What are the disadvantages of Classful addressing? Is IPv6 better? What is the difference between classful and classless addressing…

….What is Classful and classless addressing, What is classful and classless IP addressing, Is OSPF Classful or classless,

Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi?/ What is Classful addressing and classless addressing?

देखिये Classful addressing और routing में हम address को तीन मुख्य भाग में divide करते है | network , subnet , और host | जबकि क्लास्सलेस्स एड्रेसिंग और routing में हम एड्रेस को मुख्य रुप से दो भागो में डिवाइड करते है | subnet और host |

आज के समय में Classful addressing का उपयोग आपको बहुत ही काम देखने को मिलेगा, यह बहुत ही पुराना addressing scheme है और अब यह काफी पुरानी हो गयी है और इसे possibally हर नए communication नेटवर्क से deprecate कर दिया गया है |

इसकी जगह अब हम Classless addressing का उपयोग करते है जो कि लगभग 1993 से प्रकाश में आया था | यहाँ पर classes जैसा कोई concept नहीं होता है | 1981 से 1993 तक हम Classful addressing तकनीक का ही यूज़ कर रहे थे| पर 1993 में Classless addressing के आने के बाद इसका उपजोग ज्यादा होने लगा, और अब तो लगभग पूरी तरह से इसी का working और implementation running में चल रहा है |

Classful addressing में हम classes का उपयोग करते थे जिसे मुख्या तौर पर 5 क्लासेज(A , B , C , D , E) में डिवाइड किया गया था| पर Classless addressing में classes का कोई कांसेप्ट नहीं है, इसके वजह हम यहाँ पर memeory ब्लॉक्स का यूज़ करते है | ये वेरिएबल लेंथ के िप ब्लॉक होते है जो कि किसी भी क्लास को बिलोंग नहीं करते |

क्लास्सफुल एड्रेसिंग में एक बहुत बहुत बड़ा एड्रेस स्पेस बर्बाद हो जाता था, क्योकि यहाँ पर क्लासेज का मेमोरी ब्लॉक फिक्स्ड था| पर क्लस्लेस एड्रेसिंग में वेरिएबल मेमोरी ब्लॉक होते है जिन्हे हम उपयोग के अनुसार ही allocate कर सकते है |

Classless addressing किस प्रकार से Classful addressing से ज्यादा उपयोगी है ?/ What are the advantages of classless addressing over Classful addressing?/ Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi

देखिये Classless addressing Classful addressing से निम्नलिखित कारणों से ज्यादा उपयोगी है |

Classful addressing में subnet कि information send नहीं करी जाती है, जबकि Classless addressing में यह send करी जाती है |


Classless address हमें पर्याप्त addresses provide करा सकती है Classful addressing की तुलना में जहाँ पर addresses लिमिटेड होते है |

Classless addressing के अंदर जो memory allocation होता है वो bits और bytes में होता है जबकि Classful addressing में यह एक contineous memory chunks के रूप में होता है |

Classless addressing किसी भी तरह के class imbalance को eliminate करती है |

Classless addressing में subnetting के लिए कोई separate entities नहीं होती है |

Classless addressing में routing entries बहुत efficient होती है |

क्या हम Classful addressing का उपयोग आज भी करते है ?/ Is Classful addressing still used?

हाँ, पर बहुत ही rare situation में आप इसे यूज़ होते देखेंगे | अब Classful addressing का उपयोग deprecate हो चूका है और अब बहुत ही sophisticated situation में इसे यूज़ किया जाता है जहा पर इसका उपयोग jaruri या temprorary है | इसलिए Classful addressing का उपयोग अब past कि बात हो गयी है |

Quick Q&A: Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi

What is the main difference between classful and classless addressing?/ classless addressing और classful addressing में difference क्या होता है?

classless addressing में IP एड्रेस को 2 part में डिवाइड किया जाता है जो कि है subnet and host | जबकि classful एड्रेसिंग में IP address को 3 पार्ट में डिवाइड किया जाता है, जो कि है network , subnet एंड host | classful addressing में हमेशा 8 bit , 16 bit , और 24 bit network फील्ड होता है जो कि class A , B ,C पवार depend करता है |

What is classless IP addressing?/ classless IP addressing को समझाइये?

classless addressing एक improved IP addressing technique है जिसके अंतर्गत हम IP addresses का efficiently allocation कर सकते है और addresses की wastage को रोक सकते है जो की classful addressing तकनीक में होता था | classless addressing को हम classless inter domain रूटिंग(CIDR) के नाम से भी जानते है |

What is Classful subnetting?/ classful subnetting क्या होती है ?

classful subnetting के अंतर्गत हम एक classful network को 2 या 2 से अधिक छोटे छोटे subnet में डिवाइड करते है और सभी subnet same साइज के होते है और उनमे से हर subnet के पास ज्यादा से ज्यादा host होते है | और सभी subnet को configure करने के लिए एक single custom subnet mask होता है |

What is IP loopback address?/ IP loopback address क्या होता है?

IP loopback address local होस्ट एड्रेस होता है और यह वो interface होता है जो लूपबास्क फैसिलिटी प्रोवाइड करता है | अगर कोई भी कंप्यूटर या कंप्यूटर नेटवर्क इस loopback IP एड्रेस पर ट्रैफिक सेंड करता है तो वह स्वयं के कंप्यूटर पर reflect और शो करता है | आपने local host पर प्रोग्राम करते समय इस एड्रेस को बहुत बार देखा होगा, यह हमारा लोकल environment address होता है और इसके लिए मोस्ट commonly used होने वाला एड्रेस है 127 .0 .0 .1 , आप इस एड्रेस से भलीभांति परिचित होंगे|

What is classless and classful routing?/ Classful और classless routing क्या है ?

classless एंड Classful , यह दोनों protocols routing protocols है और यह network के अंदर data packet सेंड करने में हमारी मदद करते है | Classful routing protocol subnet और routing update की इनफार्मेशन send नहीं करता है जबकि classless routing protocol यह information send करता है |

What is IPv4 and IPv6?/ IPv4 और IPv6 क्या है?

यह दोनों ही internet protocols है IPv4 पुराना version है और IPv6 नया version है | यह इन internet protocol का यूज़ data पैकेट सेंड करने के लिए network और internet लेयर पर होता है | इस IP प्रोटोकॉल का काम डाटा पैकेट का path find करना होता है और यह सुनिश्चित करता है की एक डाटा पैकेट source से destination तक पहुँच रहा है कि नहीं |

What is classless addressing in IPv4?/ IPv4 के अंतर्गत classless addressing क्या है?

classless addressing एक addressing concept है जो कि Classful addressing के failure को overcome करने के लिए लाया गया था | Classful addressing में IP addresses का wastage ज्यादा हो रहा था, जिसे classless addressing में IP का efficient use करके दूर किया गया | classless routing में entries बहुत ही efficient होती है और यहाँ पर हम पर्याप्त IP addresses किसी भी नेटवर्क को efficiently allocate कर सकते है |

What is subnetting and Supernetting?/ Subnetting और Supernetting क्या होते है ?

Subnetting वह प्रोसीजर होता है जहाँ पर हम एक बड़े network को छोटे छोटे network में या फिर subnets में divide करते है | और supernetting के अंतर्गत हम कई छोटे छोटे नेटवर्क को मिला कर एक बड़ा network space create करते है |

Subnetting के अंदर हम host बिट को network बिट में convert करते है और supernetting के अंदर हम network बिट को एक बड़े network में convert करते है |

What is IP subnetting?/ IP Subnetting क्या होती है?

IP Subnetting IP addresses को लॉजिकल subpart में डिवाइड करने का एक प्रोसीजर है | जिससे कि हम एक IP addresses कि मदद से कई सरे छोटे छोटे नेटवर्क क्रिएट कर सके| और इसी प्रोसेस को हम Subnetting भी कहते है | यहाँ पर IP एड्रेस के 2 लॉजिकल division होते है | एक होता है network और दूसरा होता है host एरिया.

Is IPv6 better?/ क्या IPv6 एक बेहतर option है ?

हाँ, IPv6 IPv4 से कही ज्यादा अच्छा और advance है | IPv6 data integrity और data authenticity प्रोवाइड करता है और किसी भी तरह के data packet spoofing को रोकता है | IPv6 जिम्मेदारी के साथ डाटा पैकेट को intercept हुए source से destination तक पहुंचने में मदद करता है |

What are the disadvantages of Classful addressing?/ classful addressing का disadvantage क्या होता है?

देखिये क्लास्सफुल addresing एड्रेसिंग के साथ बहुत सारी प्रोब्लेम्स है, जैसे कि सबसे ज्यादा प्रॉब्लम यह है कि इसमें कोई ऐसी नेटवर्क क्लास नहीं होती है जो कि एक मध्यम साइज डोमेन को सपोर्ट कर पाए| यहाँ पर क्लास B और क्लास C के होस्ट में एक मेजर डिफरेंस होता है |

जहाँ आप क्लास C में सिर्फ 254 होस्ट्स(hosts) ऐड कर सकते है वहीँ पर आप क्लास B में 65534 होस्ट्स ऐड कर सकते है, पर अगर इसके कही बीच की रेंज किसी डोमेन को requirement हो तो यहाँ पर बहुत बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ता है | या तो आप यूज़ allocate नहीं करते या फिर allocate करके एक बहुत बड़ी रेंज के IP addresses बेकार हो जाते है |

What are the different classes of IP address?/ IP address की different classes कौन कौन सी होती है ?

फ़िलहाल TCP /IP network Model में ३ मुख्य classes है, सभी classes 32 बिट का address इस्तेमाल करती है | सभी classes का address space different different होता है | कुछ में network बिट्स के लिए ज्यादा space होता है कुछ में कम इसी प्रकार hosts के लिए होता है | यह class होती है A , B , एंड C.

What are the Classful IPv4 address ranges?/ classful IP address की range क्या होती है?

यह classful addressing IP addresses को (0 .0 .0 .0 से 255 .255 .255 .255 ) classes और special range continuous IP address में divide करती है | इस range में शुरू से अंत तक कोई भी address missing नहीं होता है |

What is the meaning of Vlsm?/ VLSM क्या होता है?

VLSM का फुल फॉर्म होता है variable length subnet mask , और इसका सीधा सा मतलब यह होता है कि same classful network में subnet design एक से ज्यादा subnet mask का use करता है |

Is IPv6 classless or Classful?/ IPv6 classless routing protocol है या फिर classful?

IPv6 एक classless routing protocol है, कोई routing protocol classless है या फिर classful यह हम सिर्फ IPv4 के सन्दर्भ में पता करते है | क्योंकि IPv6 के अंतर्गत सभी routing protocol classless ही होते है, क्योकि बे सभी IPv6 addresses के साथ एक prefix -length रखते है |

Who uses Class A IP addresses?/ Class A के IP address का उपयोग कौन करता है ?

Class A के IP address को बड़े और huge नेटवर्क उपयोग करते है जिनका deploy ISP द्वारा किया जाता है | Class A 16 million hosts को सपोर्ट कर सकता है |

What are subnet masks?/ Subnet mask क्या होता है?

subnet mask एक 32 bit का नंबर होता है, इसे निकालने के लिए हम सभी hosts bit को 0 करते है और सभी network bit को 1 करते है| यह subnet address IP address को network address और host address में separate करता है |

Conclusion :

तो दोस्तों इस ब्लॉग(Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi) में हमने जाना कि Classless addressing और Classful addressing में क्या difference होता है और Classless addressing Classful addressing से किस तरह better होती है | Classful addressing का उपयोग अब lagbhag deprecate हो गया है बस अब कुछ ही rare पोजीशन पर इसका उपयोग किया जाता है | Classful addressing में 5 classes होती है A , B , C , D , E , जबकि Classless addressing में कोई भी classes नहीं होती है पर यहाँ पर IP के variable size memory block होते है |

तो इस ब्लॉग पोस्ट(Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi) में हमने IP addressing(Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi) से related बहुत ही अच्छे और रोचक प्रश्नो को discuss किया है जैसे कि What is the difference between classful and classless addressing, What is Classful addressing, What are the advantages of classless addressing over Classful addressing, What is a Classful subnet mask, Is Classful addressing still used, What is classless and classful routing, What is IP classless command,…

.. What is is ipv4, What is IP subnetting, What is IPv4 and IPv6, What is the meaning of Vlsm, What are the disadvantages of Classful addressing, Is IPv6 better, What is the difference between classful and classless addressing, What is Classful and classless addressing, What is classful and classless ip addressing, Is OSPF Classful or classless,

इस ब्लॉग(Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘Classless Addressing vs Classful Addressing In Hindi?/ Difference between classful and classless addressing?/ Classless addressing और Classful addressing में क्या difference होता है?‘ को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.