FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi|FAT32 क्या है?|Fat32 और NTFS में अंतर?|NTFS सिस्टम क्या है?

हेलो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi) में हम आपको FAT32 फाइल सिस्टम के Advantages और disadvantages के बारे में बताने वाले है | आप सभी ने जो भी कंप्यूटर से familier है FAT32 का नाम तो जरूर सुना होगा, और अगर नहीं भी सुना है तो चिंता की कोई बात नहीं है हम इस ब्लॉग में आपको FAT32 File system की पूरी जानकारी देंगे|

दोस्तों इस ब्लॉग में हम FAT32(FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi) फाइल सिस्टम से रिलेटेड कुछ और मत्वपूर्ण प्रश्नो को डिसकस करेंगे जैसे कि:

What are the disadvantages of FAT32?
What are the advantages of NTFS over FAT32?
What is FAT32 used for?
Which is better fat or FAT32?
Should I use NTFS or FAT32?
Which is faster NTFS or FAT32?
What is better exFAT or NTFS?
What is faster exFAT or NTFS?
What is the difference between NTFS and FAT32?
Why do we need a file system?

FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi?

दोस्तों आप में से बहुत से लोगो ने FAT32 फाइल सिस्टम के बारे में ऑपरेटिंग सिस्टम सब्जेक्ट के अंतर्गत पढ़ा होगा | या फिर अगर आपने अपने हाथ से अपना कंप्यूटर सिस्टम फॉर्मेट किया होगा तो उसमे आप ने यह FAT32 और NTFS फाइल सिस्टम के बारे में जरूर कुछ न कुछ देखा या सुना होगा |FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi|

FAT32 Advantages and Disadvantages
FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi

FAT32 फाइल सिस्टम एक तरग का traditional DBMS system है जिसमे जो भी डाटा स्टोर होता है वह hierarchical format में होता है |

FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi:

FAT32 Advantages :

FAT32 फाइल सिस्टम के अंतर्गत boot sector अपने आप एक specified जगह पर automatically अपना बैकअप क्रिएट कर लेता है | जिससे के FAT32 फाइल सिस्टम वॉल्यूम के एक सिंगल पॉइंट failure के चांस एक FAT16 फाइल सिस्टम से काम होते है |

FAT32 फाइल सिस्टम cross compatible फाइल सिस्टम है जो कि दूसरे प्लेटफार्म पर भी आसानी से रन कर सकता है | FAT32 File system काफी मजबूत फाइल सिस्टम है | और यह फाइल सिस्टम कंप्यूटर के द्वारा ऑपरेट किये जाने वाले रिसोर्सेज कि संख्या को भी कम करता है |

FAT32 file सिस्टम छोटे क्लस्टर का उपयोग करता है | इसलिए यह FAT16 फाइल सिस्टम के मुकाबले बहुत efficiently डिस्क स्पेस allocate कर लेता है | FAT32 फाइल सिस्टम FAT16 फाइल सिस्टम कि अपेक्षा आपके फाइल साइज के हिसाब से दस से सौ megabytes तक का फ्री डिस्क स्पेस क्रिएट कर सकता है वो भी एक बड़े volume पर |

FAT32 फाइल डायरेक्टरी का जो रुट फोल्डर होता है वो एक सिंपल आर्डिनरी क्लस्टर की चैन होती है जिसे हम वॉल्यूम में कही पर भी locate कर सकते है | और इसी वजह से FAT32 फाइल के रुट फोल्डर में हम कितनी भी एंट्रीज रख सकते है |

FAT32 फाइल सिस्टम ऑटोमेटिकली फाइल एलोकेशन टेबल की बैकअप कॉपी उसे कर सकती है बजाये डिफ़ॉल्ट कॉपी use करने के |

Disadvantages of the FAT32 file system:

फाइल प्रोटेक्शन purpose से FAT32 की एक से ज्यादा identical कॉपी maintained करके रखी जाती है |

FAT32 फाइल सिस्टम के साथ कोई भी built -in फाइल सिस्टम सिक्योरिटी नहीं होती है और न ही कोई compression scheme .

FAT32 सिस्टम का सबसे बड़ा वॉल्यूम 32GB है जिसे हम विंडो 2000 द्वारा फॉर्मेट कर सकते है |

अगर हम विंडो 95 OSR2 और window 98 को छोड़ दे तो हम FAT32 फाइल सिस्टम वॉल्यूम को ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा directly एक्सेस नहीं कर सकते है |

यदि आपके सिस्टम में स्टार्टअप फेलियर की प्रॉब्लम है तो फिर आप आप अपने कंप्यूटर को MS -DOS और विंडो 95 (excluding version OSR2 एंड later), फ्लॉपी disk का उसे करके स्टार्ट नहीं कर सकते है |

Quick Q&A:

Fat32 फाइल सिस्टम की disadvantages क्या है ?

Fat32 फाइल सिस्टम को use करते समय बहुत सारी लिमिटेशन का सामना करना पड़ता है जैसे कि जो acceptible फाइल साइज है वो है 4GB इससे ज्यादा की फाइल साइज आप Fat32 फाइल सिस्टम में आप accept नहीं कर सकते है |

और जो volume साइज है वो है 2TB इससे ज्यादा volume आप नहीं क्रिएट कर सकते है | Fat32 फाइल सिस्टम में corruption बहुत आसानी से हो सकता है क्योकि इसमें किसी भी प्रकार के journaling फाइल सिस्टम का उपयोग नहीं होता है | और Fat32 फाइल सिस्टम file permission को सपोर्ट नहीं करता है |

NTFS फाइल सिस्टम Fat32 फाइल सिस्टम से किस तरह से बेहतर है ?

NTFS फाइल सिस्टम use करने का जो सबसे बड़ा advantage है वो है space | NTFS फाइल सिस्टम में हम Fat32 फाइल सिस्टम के अपेक्षा बहुत efficiently अपनी फाइल और डाटा को स्टोर कर सकते है |

क्या Fat32 फाइल सिस्टम large File हैंडल कर सकता है ?

Fat32 फाइल सिस्टम का उपयोग करके हम सिर्फ 4GB तक की फाइल को handle या स्टोर कर सकते है | और अगर हम इससे बड़ी कोई भी फाइल को हैंडल करना चाहते है तो फिर हमें exFAT या फिर NTFS फाइल सिस्टम का उपयोग करना पड़ेगा|

Fat32 फाइल सिस्टम का क्या उपयोग है ?

Fat32 फाइल सिस्टम का उपयोग हम storage डिवाइस में करते है | और यह स्टोरेज हम हार्ड ड्राइव में मैनेज करते है जैसे की हार्ड drive , SSD, Memory sticks, MicroSD cards फाइल की तरह |

Fat और Fat32 में क्या अच्छा है ?

Fat अथवा FAT16 फाइल एलोकेशन टेबल को रिप्रेजेंट करते है और generally कंप्यूटर में use होते है | FAT16 में जो फाइल partition size होती है 4GB की वो Fat32 फाइल सिस्टम की 2TB से बहुत कम होती है| और इस पार्टीशन साइज के अतिरिक्त हम Fat32 फाइल सिस्टम में 4GB individual फाइल को मैनेज या स्टोर कर सकते है | इसलिए इस सब Advantages को देख कर हम कह सकते है की Fat32 फाइल सिस्टम कही ज्यादा अच्छा है Fat OR FAT16 File system से|

NTFS और Fat32 File system में से कौन सा use करना चाहिए?

अगर आप windows सिस्टम के अंतर्गत काम कर रहे हो कहने का मतलब आपके सारे information transaction windows कंप्यूटर सिस्टम के बीच ही हो रहे है तब ऐसी कंडीशन में NTFS फाइल सिस्टम उपर्युक्त है |

पर अगर आपका इनफार्मेशन ट्रांसक्शन MAC और linux बेस्ड सिस्टम के साथ भी हो रहा है तब ऐसी कंडीशन में Fat32 फाइल सिस्टम use करना ही बेहतर है जब तक कि आप 4GB या उससे कम की फाइल ट्रांसफर कर रहे हो |

NTFS और Fat32 में कौन तेज है ?

वैसे तो यह स्पीड और परफॉरमेंस बहुत सारे फैक्टर्स पर depend कर सकती है जैसे कि हार्ड drive interface sata और एक नेटवर्क इंटरफ़ेस जैसे 3G WWAN | पर बहुत सारे एक्सपेरिमेंट से यह observe किया गया है कि NTFS सिस्टम से फॉर्मेट कि गयी ड्राइव ज्यादा fast काम करती है बजाये कि Fat32 फाइल सिस्टम फॉर्मेट के बाद |

हमें फाइल सिस्टम(File System) की जरुरत क्यों होती है ?

यह तो बड़े common sense कि बात है जैसे कि हम अपने college स्कूल, और ऑफिस के डाक्यूमेंट्स को कई सारी फाइल में मैनेज करके रखते है जिससे कि हम कोई भी डॉक्यूमेंट आसानी से रख सके, निकाल सके या फिर हटा सके| ऐसी ही कंप्यूटर सिस्टम को भी डाटा को एक प्रॉपर manner में arrange और स्टोर करने के लिए एक फाइल सिस्टम की जरुरत होती है जैसे कि NTFS और Fat फाइल सिस्टम| इससे हमें डाटा को insert , update , और delete करने में आसानी होती है |

exFAT और NTFS में कौन बेहतर है ?

NTFS फाइल सिस्टम के मुकाबले exFAT फाइल सिस्टम को बहुत सारे डिवाइस सपोर्ट करते है | फिर भी कुछ पुराने सिस्टम Fat32 को भी सपोर्ट कर सकते है | दरअसल जो NTFS फाइल सिस्टम होते है वो इंटरनेट devices के लिए अच्छा है | और exFAT फाइल सिस्टम है वो फ़्लैश ड्राइव के लिए अच्छा है | पर कभी कभी external डिवाइस को फॉर्मेट करने के लिए हमें Fat32 का उपयोग करना पड़ता है जब कोई drive exFAT सिस्टम को सपोर्ट नहीं करती |

exFAT और NTFS में कौन सा faster है ?

NTFS फाइल सिस्टम कि efficiency और consistency Fat और Fat32 सिस्टम से ज्यादा फ़ास्ट है |

Conclusion:

तो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi) में हमने Fat32 फाइल सिस्टम के Advantages और disadvantages के बारे में जाना और समझा| यह Fat , NTFS फाइल सिस्टम का उपयोग हमारे कंप्यूटर सिस्टम में डाटा और इनफार्मेशन को स्टोर करने के लिए होता है | Fat32 फाइल सिस्टम की पार्टीशन वॉल्यूम capacity होती है 2TB और 4gb मैक्स तक की individual फाइल को यह ट्रांसफर कर सकता है |

इस ब्लॉग पोस्ट(FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi) में हमने Fat32 फाइल सिस्टम से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नो को भी डिसकस किया है जैसे कि What is the disadvantages of FAT32, What are the advantages of NTFS over FAT32, What is FAT32 used for, Which is better fat or FAT32, Should I use NTFS or FAT32, Which is faster NTFS or FAT32, What is better exFAT or NTFS, What is faster exFAT or NTFS, What is difference between NTFS and FAT32, Why do we need a file system.

इस ब्लॉग(FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.