Cache Memory In Hindi?|Cache Memory क्या है?

हेलो दोस्तों आज के ब्लॉग पोस्ट(Cache Memory In Hindi) में मैं आप सभी को Cache memory के बारे में हिंदी में बताने वाला हूँ | इस ब्लॉग पोस्ट में हम discuss करेंगे कि cache memory क्या होती है और इसका use हम कैसे करते है |

Cache memory को आपने प्रोग्रामिंग और कंप्यूटर सिस्टम के बारे में पढ़ते वक़्त जरूर पढ़ा होगा |यह एक प्रकार की volatile मेमोरी है जिसे CPU द्वारा डाटा और इंस्ट्रक्शन को access करने के लिए use किया जाता है |

इस ब्लॉग पोस्ट के अंदर हम Cache memory(Cache Memory In Hindi) से जुड़े कुछ और भी इम्पोर्टेन्ट questions को डिसकस करेंगे जैसे कि

Why do we use cache memory?
What are the 3 types of cache memory?
How does cache memory work?
What are cache memory and its types?

Cache Memory In Hindi?

देखिये Cache memory को समझना बहुत ही आसान है और यहाँ पर हम आपको कुछ real life exaample के माध्यम से Cache memory को समझायेंगे जिससे कि आपको बेहतर तरीके से यह समझ आ जाये | इसके exaample निम्नलिखित है |Cache Memory In Hindi|

यहाँ पर हम एक बैंक का exaample दे कर आपको Cache memory का कांसेप्ट समझायेंगे | दोस्तों आप में से तक़रीबन सभी लोगो का कभी न कभी बैंक आना जाना होता होगा |

और आप देखते होंगे बैंक में जो डिपाजिट वाउचर और withdrawal वाउचर होते है वो एक common desk में रख दिया जाता है या किसी भी स्थान पर लटका दिया जाता है |

तो ऐसे में होता क्या है लोग इन voucher को easily एक्सेस कर लेते है और बैंक को भी इसके लिए कोई अतिरिक्त employee नहीं रखना पड़ता है |

और इसमें लोगो का समय भी बहुत जाता है क्योकि उन्हें लाइन में नहीं लगना पड़ता है | तो बैंक में वह कॉमन प्लेस जहाँ पर वाउचर रखे जाते है उसे हम Cache memory मान सकते है और जो deposit और विथड्रावल वाउचर हम इन पर रखते है उसे हम frequeent required pages अथवा data मान सकते है |

देखिये ये deposit voucher और withdrawal voucher जो होते है उन्हें लोग बहुत ही frequently बैंक में use करते है | पर neft voucher को सभी लोग use नहीं करते है इसलिए neft voucher को इस common प्लेस अथवा डेस्क में नहीं रखा जाता है |

बस ऐसे ही प्रोग्रामिंग में भी वो डाटा अथवा प्रोग्राम जिसे लोग frequently एक्सेस करते है उसे fast मेमोरी में रख दिया जाये अथवा Cache memory में रख दिया जाये तो एवरेज मेमोरी एक्सेस टाइम को काफी हद तक reduced किया जा सकता है |

और इससे प्रोग्राम के total execution time में भी कमी आ जाती है | और इसी fast memory को हम Cache memory कहते है |

System के अंदर Cache memory को कहाँ पर रखा जाता है ?

Cache memory को CPU और main मेमोरी के बीच में रखा जाता है | जैसे कि आप नीचे दिए चित्र में देख सकते है कि जो Cache memory access time है वो मेमोरी एक्सेस टाइम से कही कम है | और memory में Cache memory सबसे तेज़ memory होती है और यह CPU component की स्पीड को एप्रोच करती है |

Cache memory के पीछे जो फंडामेंटल आईडिया है वो यह है कि ऐसे इंस्ट्रक्शंस और पेजेज जिन्हे बहुत फ्रेक्वेंटली एक्सेस किया जा रहा है उन्हें फ़ास्ट मेमोरी अथवा Cache memory में रखा जाता है |

और जब भी CPU किसी भी पेज के लिए रिक्वेस्ट करता है तो सबसे पहले इसे fast memory में सर्च किया जाता है और जब अगर वह इंस्ट्रक्शन Cache memory में नहीं मिलता है तब उसे main memory में सर्च किया जाता है |

और जब कोई instruction अथवा ब्लॉक बार बार एक्सेस किया जाता है तो ऐसे इंस्ट्रक्शन को Cache memory में रख लिया जाता है जिससे कि एक्सेस टाइम को काफी हद तक कम किया जा सके |

Quick revision:

Why do we use cache memory?| हम Cache memory का उपयोग क्यों करते है?

Cache memory को हम एक्सेस टाइम काम करने के लिए use करते है | जब भी CPU किसी भी डाटा के रिक्वेस्ट करता है तो अगर डाटा Cache memory में मिल जाता है तो इस प्रोसेस में बहुत काम टाइम लगता है |

कैश मेमोरी RAM और CPU के बीच memory buffer होता है जहाँ पर बहुत जल्दी जल्दी एक्सेस होने वाले डाटा को रख दिया जाता है |

और जब भी इन डाटा को कोई रिक्वेट्स करता है तो फिर वह आसानी से कैश मेमोरी से एक्सेस कर लिए जाते है और इस सब में बहुत सारा टाइम बच जाता है |

What are the 3 types of cache memory? | कैश मेमोरी के कौन कौन से टाइप्स होते है ?

Cache memory के तीन प्रकार होते है L1 , L2 , and L3 | L1 जो है उसको processor चिप्स के साथ build किया जाता है | L2 जो है वो CPU का occasional पार्ट है, पर अक्सर ही यह एक सेपरेट चिप होती है जो कि RAM और CPU के बीच में होती है |

L2 और L3 जो होते है वो बड़े Cache block होते है पर इनका access टाइम L1 से कुछ ज्यादा होता है |

How does cache memory work? | Cache memory कैसे काम करती है ?

जैसे कि हम जानते है कि RAM जो होती है वो थोड़ा slow होती है और यह CPU से थोड़ा distance पर होती है | इसलिए Cache memory को कही इन दोनों memory के बीच में built किया जाता है |

जिसमे data , programs , और information को स्टोर किया जा सके| और CPU को जब भी डाटा की जरुरत होती है तो वो faster access के लिए डाटा को पहले Cache में देखता है | और जिस डाटा को यूजर बार बार एक्सेस करते है उसे Cache memory में रखा जाता है |

What are cache memory and its types?| Cache memory क्या है और उसके कितने प्रकार होते है ?

Cache memory एक तरह कि छोटी और फास्टर मेमोरी है जहाँ पर उस डाटा और इनफार्मेशन को स्टोर किया जाता है जिसको यूजर बार बार एक्सेस करते है | और यह मेमोरी डाटा एक्सेस को काफी फ़ास्ट कर देती है |

Cache memory के दो प्रकार होते है | एक होता है memory caching (Cache स्टोर, मेमोरी बफर, RAM (SRAM) cache) और दूसरा जो होता है वो है disk Cache |

जो memory Cache का area होता है वह high speed RAM से मिलकर बना होता है, जबकि धीमी सस्ती डायनामिक RAM (DRAM) के उपयोग से एक स्लो स्पीड मेमोरी एरिया भी बनाया जा सकता है | पर वह उतनी अच्छी एक्सेस स्पीड प्रोवाइड नहीं कर पायेगा |

You can also go through a few more amazing blog links below related to operating systems:

disk scheduling क्या होती है…
FAT32 Advantages and Disadvantages…
Overlay advantages and disadvantages in programs…
What is the use of Cache Memory…
What is Linker? Why is it required?…
types Of File Operations…
What are the file Organisation and its types…
Dijkstra: Bankers Algorithm For Deadlock Avoidance…
What is a thread in the operating system with an example…
Cache Memory In Hindi…
Linker In Hindi…
What Is Multithreading models in Hindi…
Dynamic Storage Problem In OS In Hindi…
Process states in the Operating system in Hindi…
FAT32 Advantages And Disadvantages In Hindi…
Critical Section Problem With a Simple Example…
Critical Section Problem In OS In Hindi…
Dijkstra Algorithm In Hindi|Banker’s Algorithm In Hindi…
What Is Dynamic Storage Problem…
What are the Fork and Exec system calls…
Multithreaded Process: Benefits & Models…
The Process States In Operating System…

Conclusion:

तो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(Cache Memory In Hindi) में हमने cache memory के बारे में पढ़ा और जाना | cache memory एक fast memory होती है जहाँ पर उस डाटा अथवा इनफार्मेशन को स्टोर कर के रखा जाता है जिस डाटा को यूजर बार बार एक्सेस करते है | cache memory के होने से CPU को बार बार डाटा main मेमोरी में ढूंढ़ने की जरुरत नहीं होती है | CPU को वह डाटा आसानी से cache में मिल जाता है | इससे access time में reduction होता है और ओवरऑल execution में बहुत कम समय लगता है और यूजर को भी आउटपुट screen पर जल्दी मिल जाता है |

इस ब्लॉग(Cache Memory In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते support@a5theory.comपर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट(Cache Memory In Hindi) को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.