Critical Section Problem In OS In Hindi

हेलो फ्रेंड्स, आज के इस ब्लॉग पोस्ट(Critical Section Problem In OS In Hindi) में मैं आपको critical section problem के बारे में हिंदी में विस्तार से बताने जा रहा हूँ | critical section प्रोग्राम का वह हिस्सा होता है जो शेयर्ड resources को एक्सेस करने के लिए निरंतर प्रयास करता है |

और इन resources में कुछ भी हो सकता है जैसे कि memory location , data structure , CPU , या फिर कोई input output device |Critical Section Problem In OS In Hindi|

आप में से बहुत से लोगो ने ऑपरेटिंग सिस्टम के अंदर इस critical section problem को जरूर पढ़ा होगा | बहुत से लोग इस critical section की problem को समझने में कठनाई महसूस करते है |Critical Section Problem In OS In Hindi|

तो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(Critical Section Problem In OS In Hindi) के माध्यम से हम आपको बहुत अच्छे तरीके से हिंदी में इस critical section problem के बारे में समझायेंगे |

critical section को एक बार में केवल एक ही process execute या फिर access कर सकती है | और ऑपरेटिंग सिस्टम को किसी भी प्रोसेस को critical section में जाने के लिए allow और disallow करने में काफी मसक्कत करनी पड़ती है |

तो यहाँ पर हम यह कह सकते है कि critical section problem को हम कुछ ऐसे प्रोटोकॉल डिज़ाइन करने के लिए use करते है जो कि किसी भी प्रोसेस के बीच कोई race या deadlock कि कंडीशन उत्पन्न न होने पाए |

तो process को synchronize करने के लिए जो हमारा main फोकस या टास्क होता है वो है critical section problem को solve करना है | और यह सब करने के लिए हमें कुछ कंडीशन satisfied करनी पड़ती है, जो कि निम्नलिखित है |

Condition satisfaction के लिए requirements :

mutual exclusion :

जो हमारा solution होता है उसे mutual exclusion प्रोवाइड करवाना चाहिए, mutual exclusion के अंतर्गत अगर एक प्रोसेस critical section में execute हो रही है तो उस समय पर कोई भी दूसरी प्रोसेस critical section में enter नहीं करेगी|

critical section mutual exclusion
critical section mutual exclusion

Progress :

इसके अंतर्गत अगर किसी प्रोसेस को critical section में execute होने की जरुरत नहीं है तो वह किसी अन्य प्रोसेस को critical section में जाने से नहीं रोकेगी |

Secondary:

Bounded waiting :

हमें किसी भी प्रोसेस के critical section में जाने के waiting टाइम का prediction पहले से होना चाहिए | ऐसा कतई नहीं होना चाहिए कि कोई प्रोसेस लगातार endlessly critical section के लिए wait कर रही है |

Architectural Neutrality

अगर हमारा critical section problem solution एक आर्किटेक्चर पर अच्छे से वर्क कर रहा है तो फिर उसे कोई और आर्किटेक्चर पर भी अच्छे से वर्क करना चाहिए |

Example: Critical Section Problem In OS In Hindi

चलिए हम आपको एक सिंपल example के जरिये यह critical section की problem को समझाते है | मान लीजिये X एक variable है जिसे एक process A read करना चाहती है और उसी same time पर process B इस X variable को write करना चाह रही है |

पर यहाँ पर इस बात की बहुत सम्भावना बढ़ जाती है कि जो वैल्यू X की प्रोसेस A read करेगी वो पुरानी वाली भी हो सकती है जबकि इसके बाद process B ने उसे write करके अपडेट कर दिया है |

इसी स्थिति को रोकने के लिए हम process B को सबसे पहले critical section में execute करते है और प्रोसेस B write operation को ख़तम करके X कि vlaue को update कर देती है | और तब तक के लिए प्रोसेस A को wait करना पड़ता है |

और एक बात जब process B का का काम ख़तम हो जाता है तब प्रोसेस A ‘X ‘ कि value को read करती है | और यहाँ पर वह X कि बिलकुल updateed और सही value को रीड करती है |

Conclusion :

तो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(Critical Section Problem In OS In Hindi) में हमने critical section के बारे में विस्तार से हिंदी में जाना और समझा| कुल मिलाकर कर इस post का सार यही है कि critical section एक प्रोग्राम के अंदर वह section होता है जहाँ पर एक बार में एक ही प्रोसेस execute होती है और बाकि दूसरी process तब तक अपनी बारी का इंतज़ार करती है जब यह मौजूदा प्रोसेस पूरी तरह से execute न हो जाये |

इस ब्लॉग(Critical Section Problem In OS In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट Critical Section Problem In OS In Hindi को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.