What Is Data Replication In DBMS In Hindi?

हेलो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(What Is Data Replication In DBMS In Hindi) में मैं आपको Data replication के बारे में हिंदी में जानकारी देने वाला हूँ | इस ब्लॉग पोस्ट में हम जानेगे की डाटा रेप्लिकेशन की क्या क्या advantage और disadvantages होती है, और हम इसके example के बारे में भी देखेंगे |

तो चलिए सबसे पहले यह जानते है की डाटा रेप्लिकेशन क्या होता है ?|What Is Data Replication In DBMS In Hindi?

दोस्तों रेप्लिका(replica) का मतलब होता है हूबहू कॉपी(Mirror Image or Identical copy) और बहुत से लोग इस word को जानते होंगे | तो जब हम किसी डाटा फाइल की एक्सएक्ट same कॉपी क्रिएट कर देते है, या फिर हम इसे मिरर इमेज भी बोल सकते है | तब हम इस प्रोसेस को Data replication प्रोसेस बोलते है |What Is Data Replication In DBMS In Hindi|

example के लिए मान लीजिये हम एक्सेल फाइल के कंटेंट को एक दूसरी एक्सेल फाइल में same नाम के साथ कॉपी पेस्ट करके save कर देते है तो फिर यह दूसरी एक्सेल फाइल पहली डाटा फाइल की replica कॉपी होगी |

data-replication
Data replication in dbms in hindi

आमतौर पर हम यह काम अक्सर अपने कंप्यूटर सिस्टम में भी करते है | जैसे हम कुछ important डाटा फाइल को कई लोकेशन पर save करके रखते है वो भी एक ही नाम के साथ |

तो यह सब हमारी main डाटा फाइल की replica होती है | इससे होता यह है कि अगर हमारी main फाइल को कुछ हो जाता है तो हम अपनी दूसरी अन्य replica फाइल को use करके अपना काम कर सकते है |

Data replication की तीन strategies कौन कौन सी होती है ?

Data replication की तीन मुख्य strategies निम्नलिखित है:

Full replicated Database : एक Database की कई सारी copies किसी दूसरी साइट पर maintain की जाती है |

Partially replicated Database : एक डेटाबेस की कुछ copies को दूसरी साइट पर रखा अथवा मेन्टेन किया जाता है |

unreplicated database : दूसरी साइट पर डेटाबेस की कोई भी कॉपी maintain नहीं की जाती है |

अब आगे इस ब्लॉग में हम देखेंगे की Data replication की advantages और disadvantages क्या क्या होती है :

Data रेप्लीकेशन की अडवांटेगेस: Data replication की दो मुख्य advantages निम्नलिखित है |

Availability :

यहाँ पर server अथवा site एक्सेस fail हो जाने के कारण अगर यूजर एक Data file R को यहाँ पर एक्सेस नहीं कर पा रहा है तब हम users को इसी डाटा फाइल की replica कॉपी जो कि किसी और सर्वर अथवा साइट पर है दे सकते है access करने के लिए|

parallel Increased :

अगर हम एक डाटा फाइल की रेप्लिका को और कई सारे server में रखते है तो फिर हम एक साथ कई सारे users की रिक्वेस्ट को entertain कर सकते है | और इस तरह से एक parallel process को आसानी से अचीव कर सकते है |

Data replication की disadvantages :

डाटा रेप्लिकेशन में एक जो main headache रहता है वो है Data updation का | मान लीजिये हम एक डाटा फाइल जिसकी पांच और अलग अलग server में replica है को हम अपडेट करते है तब अब हमें इस डाटा फाइल को हर सर्वर जहाँ पर इसी replica maintain है को अपडेट करना पड़ेगा |

तो यहाँ पर यह updation का headache बढ़ जाता है और अगर हम ऐसा नहीं करते तो फिर सभी users को डाटा में चेंज मिल सकता है, और सभी server का डाटा uniform नहीं रहेगा|Quick Q&A:

Conclusion:

तो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(What Is Data Replication In DBMS In Hindi) में हमने Data replication के बारे में पढ़ा और जाना | Data replication किसी डाटा फाइल की हूबहू कॉपी बना देना होता है | और फिर हम उसे अलग अलग स्थानों पर यानि कि सर्वर और साइट्स पर मेन्टेन करते है | Data replication के कुछ advantages होते है और कुछ disadvantages भी होते है | Data replication के through हम parallel processing को बहुत आसानी से अचीव कर सकते है |

इस ब्लॉग(What Is Data Replication In DBMS In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *