What Is NSE In Hindi?|NSE क्या है?| NSE full form in Hindi?

हेलो दोस्तों आज के इस blog post(What Is NSE In Hindi) में मैं आपको NSE के बारे में हिंदी में जानकारी देने वाला हूँ | NSE का फुल फॉर्म होता है national stock exchange |

यह स्टॉक हमारे देश का पहला modern and एडवांस्ड electronic trading system है | NSE के आने के बाद ट्रेडिंग की दुनिया में एक क्रांति सी आ गयी और इसने बहुत से नए लोगो को ट्रेडिंग के बिज़नेस की ओर आकर्षित किया और अपने साथ जोड़ा और यह process सतत जारी है |What Is NSE In Hindi|

NSE का establishment 1992 में हुआ था और इसका जो हेड ऑफिस है वो मुंबई में ही है | और NSE का जो market cap है वो लगभग $2 .30 ट्रिलियन(2018 तक)|What Is NSE In Hindi|

जब BSE था तो NSE की जरुरत क्यों पड़ी ?

दरअसल NSE को लाने के पीछे दो मुख्य कारण थे एक तो ट्रेडिंग सिस्टम में पारदर्शिता लाना और दूसरा सिस्टम को एडवांस और computerize बनाना जिसमे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का उपयोग हो सके और ज्यादा से ज्यादा लोग इस ट्रेडिंग सिस्टम से जुड़ सके|

आपने शायद हर्षद मेहता scam के बारे में जरूर सुना होगा अगर आप शेयर मार्किट से जुड़े हुए है | और इसके ऊपर अभी कुछ समय पहले एक मूवी रिलीज़ की गयी है OTT प्लेटफार्म पर| तो ऐसे ही कुछ scam और fraud को रोकने के लिए NSE जैसे trading system को invent किया गया |

पहले तो BSE के ऊपर कण्ट्रोल करने के sebi नाम की संस्था का गठन किया गया था पर BSE के निवेशकों को यह ज्यादा रास नहीं आया तो फिर इसके बाद NSE को establish किया गया | जो की सभी आधुनिक तकनीक से सपन्न है और एक automated electronic trading exchange है |

भारत देश की पूंजी बढ़ाने में जितना योगदान BSE ने दिया है तो NSE ने उससे कही अधिक तेज़ी के साथ भारत के बाजार में पूंजी की भरमार कर दी है |

NSE के अंदर 2000 से ज्यादा कम्पनीज रजिस्टर है और कोई डायरेक्ट NSE से ट्रेडिंग नहीं कर सकता है उसे trading करने के लिए सबसे पहले broker के माध्यम से sebi के साथ रजिस्टर होना पड़ता है |

NSE की market capitalization value कितनी है ?

NSE का का market capitalization 1 .80 trillian american डॉलर है | sebi के गठित होने के बाद से ही stock market में बहुत सारे बदलाव होने लगे और वक़्त की मांग के हिसाब से सिस्टम में बहुत ही सुधार किया गया | और NSE के आने के बाद पूरा trading सिस्टम ऑनलाइन हो गया और ट्रेडिंग बहुत तेज़ी से बढ़ने लगी | जबकि इससे पहले के समय में ट्रेडिंग का लेखा जोखा doucments पर होता था जिन्हे आपस में पोस्ट द्वारा भेजा और मंगाया जाता था और इसमें तक़रीबन 4 से 6 महीने का समय लग जाया करता था |

NSE के आने के बाद क्या क्या बदलाव आए?

NSE को शुरुआत में प्राइवेट लिस्टेड कंपनी के तौर पर रजिस्टर किया गया | 1992 के आस पास कुछ बहुत बड़े scam के सामने आने के बाद sebi का गठन किया गया जो की share market की सभी गतिविधियों पर नज़र रखने लगी | और american share maket के नियमो को फॉलो किया जाने लगा|

NSE के के बाद शेयर मार्किट का पूरा काम धीरे धीरे ऑनलाइन होने लगा और धीरे धीरे documents का उपयोग खत्म सा हो गया | पर यह सेबी का सिस्टम BSE के निवेशकों को कुछ खास पसंद नहीं आया था |

इसलिए शुरुआत में BSE ने sebi के साथ अपने आपको रजिस्टर नहीं किया था | पर 1995 के आस पास BSE को अपनी सभी companies को भी sebi में रजिस्टर होना पड़ा और फिर उसने sebi के अंडर में काम काज चालू रखा |

NSE को लाने के पीछे मुख्य कारण क्या था ?

NSE को लाने के पीछे प्रमुख उद्देश्य trading और इससे रिलेटेड गतिविधियों को बढ़ावा देना था | और सिस्टम को और भी सुगम और फ़ास्ट बनाना था | क्योकि अगर ट्रेडिंग बढ़ती है तो फिर इससे देश में रोज़गार के अवसर भी बनते है | क्योकि अगर किसी कंपनी को पूंजी मिलती है तो वो अपनी ग्रोथ करती है और इससे कई लोगो को अनेक comapnies में काम मिलता है |

BSE भले ही बहुत पुराना है पर आज की डेट में NSE में ज्यादा लोग ट्रेडिंग करते है | क्योकि इसमें ज्यादातर इन्वेस्टमेंट trading account के जरिये होता है |

NSE का index अथवा benchmark क्या है ?

NSE का बेंच मार्क NIFTY है और इसी से इसकी और मार्किट की परफॉरमेंस को मापा जाता है | NIFTY के अंदर देश भर की 50 बड़ी कम्पनीज अलग अलग sectors की रजिस्टर होती है | और जब निफ़्टी ऊपर जाती है तो इसका मतलब की देश में व्यापर अच्छा हुआ है या फिर NSE का market बहुत अच्छा रहा है |

NIFTY का ऊपर और नीचे जाना काफी हद तक हमारी देश की economic कंडीशन के उतर और चढ़ाव को दर्शाता है |

NSE में निवेश करना महत्वपूर्ण क्यों है ?

NSE में ट्रेडिंग करना बहुत ही आसान है यहाँ पर बिना किसी पेपर वर्क के आप अपने trading account से ट्रेडिंग कर सकते है और फिर अपने शेयर्स को digitally अपने अकाउंट में रख सकते है | और यह पूरा प्रोसेस और सिस्टम आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल फ़ोन पर ऑपरेट कर सकते है |What Is NSE In Hindi|

आप share market से जुड़े हुए कुछ और अच्छे blog नीचे दी हुई ब्लॉग लिंक का उपयोग करके पढ़ सकते है:

SEBI NEW MARGIN RULES IN HINDI 2021…
Difference between Intraday trading and delivery trading…
Delivery Trading vs Intraday Trading In Hindi…
Top 5 Best Demat and Trading Account In India…
Trading In Share Market In Hindi…
Mutual Fund vs Share Market…
Difference between the mutual fund and share market In Hindi…
What Is Share Market In Hindi…
What Is Share Market…
What Is NIFTY And SENSEX In Hindi…

Conclusion:

तो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(What Is NSE In Hindi) में हमने NSE के बारे में हिंदी में जाना और समझा| NSE का फुल फॉर्म होता है national stock exchange | NSE एक मॉडर्न और एडवांस इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम है जहा पर शेयर मार्किट का पूरा काम ऑनलाइन चलता है और आप आसानी से अपने घर पर बैठ कर ट्रेडिंग का आनंद ले सकते है और पैसे बना सकते है |

इस ब्लॉग(What Is NSE In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट What Is NSE In Hindi को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|What Is NSE In Hindi|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.