Subnetting vs Supernetting In Hindi In Computer Network?

हेलो दोस्तों आज के इस ब्लॉग पोस्ट(Subnetting vs Supernetting In Hindi) में हम आपको subnetting और supernetting में difference हिंदी में बताने वाले है |

अगर हम सीधे शब्दों में इनकी definition देखे तो subnetting में हम होस्ट बिट को नेटवर्क बिट में convert करते है | और supernetting के अंदर हम नेटवर्क बिट को होस्ट में कन्वर्ट करते है |Subnetting vs Supernetting In Hindi|

subnetting एक ऐसा प्रोसीजर है जहाँ पर हम एक नेटवर्क को हम छोटे छोटे नेटवर्क अथवा सबनेट में डिवाइड करते है | और supernetting में हम कई सारे छोटे नेटवर्क को combine करके एक बड़ा स्पेस क्रिएट करते है |Subnetting vs Supernetting In Hindi|

या इसको आप इस तरह भी कह सकते है कि subnetting में नेटवर्क बिट को increase करते है और supernetting में हम होस्ट बिट को increase करते है |

subnetting before and after copy
subnetting before and after copy: Subnetting vs Supernetting In Hindi

चलिए अभी तक तो ऊपर दी गयी definition से आपको subnetting और supernetting में काफी कुछ डिफरेंस समझ में आ गया होगा |

चलिए अब हम subnetting और supernetting के बीच tabular फॉर्म में difference देखते है |Subnetting vs Supernetting In Hindi|

SubnettingSupernetting
subnetting एक प्रोसीजर है जहाँ पर हम एक नेटवर्क को subnetwork में डिवाइड करते है |supernetting एक प्रोसीजर है जहाँ पर हम सभी छोटे छोटे नेटवर्क को combine करते है |
subnetting में हम नेटवर्क बिट्स को बढ़ाते है |और supernetting में हम host bits को बढ़ाते है |
subnetting में जो मास्क बिट्स होती है वो राइट साइड move करती है |supernetting में जो mask bits होती है वो left side move होती है |
subnetting को हम variable size subnet masking की मदद से implement करते है |supernetting को हम classless interdomain routing की मदद से implement करते है |
subnetting में address depletion या तो कम होती है या फिर खत्म होती है |supernetting में address depletion को हम routing process को सरल बनाने के लिए use करते है |
Subnetting vs Supernetting In Hindi In Computer Network

Quick Q&A:

What is subnetting and supernetting what are its advantages? subnetting और Supernetting क्या है और इनसे हमें क्या फायदा होता है ?

subnetting में हम एक बड़े नेटवर्क को छोटे छोटे नेटवर्क्स अथवा subnets में डिवाइड करते है |

Advantages:

subnetting में हम होस्ट्स को लोकल एरिया नेटवर्क में कन्वर्ट कर सकते है जितने भी होस्ट allowed है |

subnetting जो है ब्रॉडकास्ट के वॉल्यूम को कम करता है इसलिए इससे नेटवर्क ट्रैफिक में भी कमी आ जाती है |

subnetwork को मेन्टेन और मैनेज करना आसान है |

subnetting से एड्रेस की flexibility इनक्रीस हो जाती है |

subnetwork होने से हम नेटवर्क सिक्योरिटी को भी subnetwork और जरुरत के हिसाब से specific implement कर सकते है वजाये कि पूरे नेटवर्क में implement करें|

Disadvantages:

subnetting को implement करना थोड़ा expensive होता है |

subnetting को परफॉर्म करने के लिए हमें एक trained administrator की जरुरत होती है |

Supernetting में हम छोटे छोटे नेटवर्क को कंबाइंड करके एक बड़ा नेटवर्क स्पेस क्रिएट करते है |

Advantages:

Supernetting जो है वो इंटरनेट पर नेटवर्क ट्रैफिक को काफी हद तक कम करती है |

सुपरनेटिंग रूटिंग टेबल lookup की स्पीड को बढ़ा देती है |

Supernetting में रूटिंग इनफार्मेशन को summarized करके सिंगल एंट्री बना दिया जाता है जिससे router memory टेबल की साइज कम हो जाती है इससे काफी मेमोरी स्पेस सेव हो जाता है |

Disadvantages:

यहाँ पर जो ब्लॉक्स को कंबाइन किया जाता है वो 2 की पावर में होते है इसलिए जहाँ पर तीन ब्लॉक की जरुरत होती है वहां पर चार ब्लॉक असाइन करने पड़ते है |

जब बहुत सारी एंट्रीज को एक साथ मर्ज करना होता है तो बहुत सारे एरिया कवर नहीं हो पातें है |

Supernetting के लिए पूरे नेटवर्क को एक क्लास में exist होना चाहिए|

Supernetting की जरुरत हमें कब होती है ? What is the need of supernetting?

Supernetting का main purpose होता है routers के अंदर routing table की साइज को कम करना |

networking से रिलेटेड कुछ और blogs आप नीचे दिए गए blog लिंक से पढ़ सकते है |

Subnet Mask In Hindi In Computer Network?

Subnetting vs Supernetting In Hindi In Computer Network?

Supernetting In Hindi In Computer Network?

Conclusion:

तो दोस्तों इस ब्लॉग पोस्ट(Subnetting vs Supernetting In Hindi) में हमने आपको subnetting और supernetting के बीच के अंतर को समझाया है | subnetting में हम होस्ट बिट को नेटवर्क बिट में कन्वर्ट करते है और सुपरनेटिंग में हम नेटवर्क बिट को होस्ट बिट में कन्वर्ट करते है | subnetting में एक नेटवर्क को कई छोटे छोटे नेटवर्क में डिवाइड करते है जबकि supernetting में हम छोटे छोटे नेटवर्क को combine करते है |

इस ब्लॉग(Subnetting vs Supernetting In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट(Subnetting vs Supernetting In Hindi) को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *