WWW In Hindi: World Wide Web In Hindi, WWW हिंदी में/ What is the WWW in Hindi?

हेलो दोस्तों, आज के इस ब्लॉग पोस्ट(What is the WWW in Hindi) में मै आपको एक बहुत ही इंटरेस्टिंग चीज़ के बारे में बताने जा रहा हूँ, इसका नाम है WWW(www in hindi) |

हालांकि आप में से बहुत से लोग इस WWW को रोज़ देखते होंगे, या फिर देखा होगा, या फिर जल्दी ही देखेंगे, क्योकि जिस स्पीड में आज इंटरनेट का यूज़ बढ़ रहा है उस हिसाब से सभी लोग इस WWW परिचित हो जायेंगे.|What is the WWW in Hindi|

What is WWW and it’s working?/What is the WWW in Hindi?

WWW को और W3 और web के नाम से भी जाना जाता है, इसका फुल फॉर्म होता है World Wide web | ववव एक आर्चिटेक्टरेअल फ्रेम वर्क होता है जिसकी मदद से हम सभी लिंक्ड डॉक्यूमेंट और इंटरनेट पर उपलब्ध सभी डाटा सोर्स को एक्सेस कर सकते है |

WWW, फ्लेक्सिबिलिटी(flexibility), पोर्टेबिलिटी(portability) और यूजर फ्रेंडली(user friendly) फीचर्स का कॉबिनेशन(combination) है जो कि इसे इंटरनेट द्वारा प्रोवाइड करी जाने वाली बाकी सर्विसेज से अलग रखता है |

WWW की पॉपुलैरिटी का main reason इसका हाइपरटेक्स्ट प्रोटोकॉल(hypertext protocol) को उसे करना है| हाइपरटेक्स्ट(Hypertext) इनफार्मेशन को स्टोर और निकलने का नया तरीका है | यह इनफार्मेशन तो स्टोर करने का एक स्त्रुक्टुरेअल तरीका देती है जिस तरह एक ऑथर अपनी स्टोरी को नावेल में संग्रहित करता है|

एक अच्छे तरह से डिज़ाइन किये हुए हाइपरटेक्स्ट डॉक्यूमेंट(hypertext document) में इनफार्मेशन को लोकेट करना या ढूढ़ना एक यूजर के लिए बहुत ही आसान हो जाता है, और वो इंटरनेट में उपलब्ध बृहद्द(Vast) जानकारी के बीच अपने काम की चीज़ो को आराम से ढूंढ लेता है|

हाइपरटेक्स्ट लिंक्स(Hypertext Links) के माधयम से इस टास्क को बड़ी आसानी से कर लेता है, एक हाइपरटेक्स्ट लिंक(Hypertext Link) एक या एक से ज्यादा डाक्यूमेंट्स और लिंक्स का संग्रह हो सकता है |

इंटरनेट पर हाइपरटेक्स्ट डॉक्यूमेंट को हम वेब पेजेज(web page) के नाम से भी जानते है | वेब pages को एक स्पेशल लैंग्वेज के द्वारा तैयार किया जाता है जिसे हम HTML(हाइपरटेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज, hypertext markup language) कहते है |

WWW client sever मॉडल का यूज़ करता है, और इंटरनेट पर उपलब्ध कम्प्यूटर्स से बीच interaction करने के लिए हम HTTP (hyper text transfer protocol ) का उपयोग करते है |

इंटरनेट पर कोई भी कंप्यूटर जो HTTP protocol का यूज़ करता है यूज़ हम web server कहते है, और कोई भी computer जो इस web server को access करता है उसे हम web client बोलते है |

आप जब भी कोई वेबसाइट ओपन करते थे , चाहे वो किसी भी browser पर हो(chrome , internet explorer , mozilla एंड etc.) आप देखते होंगे की वह पर हमेशा www.yourwebsite.com एड्रेस लिखना पड़ता था|

पर आज कल सभी वेब ब्राउज़र में यह www बी डिफ़ॉल्ट होता है, इसलिए हमें यह www टाइप करने की जरुरत नहीं पड़ती| हम सीधे अपनी वेबसाइट का नाम लिख कर अपनी वेबसाइट ओपन कर सकते है|

इस तरह न तो हमें http या https लिखने की जरुरत पड़ती है और न ही हमें www लिखना पड़ता है, इसका करण वही है कि आज कल सभी ब्राउज़र में यह सेगमेंट डिफ़ॉल्ट कर दिया गया है, क्योकि आज सभी लोग वेबसाइट के HTML view को एक्सेस करते है,…

और वेबसाइट में ही HTML लिंक के माध्यम से वो सारी जरुरी जानकारी देख लेते है, सर्वर पर राखी जानकारी कुछ specific जानकारी के लिए उन्हें कोई भी स्पेसिफिक address टाइप करने कि जरुरत नहीं पड़ती|

इसलिए आप ने देखा होगा कि जब भी हम ब्राउज़र पर अपनी वेबसाइट का नाम डोमेन(domain) के साथ एंटर करते है तो चाहे हम WWW लगाए या नहीं भी लगाए तब भी हमारी वेबसाइट ओपन हो जाती है|

मतलब यह है कि वेबसाइट का नाम टाइप करते ही एक रिक्वेस्ट(request) DNS server के पास जाती है और वह से हमारी वेबसाइट का IP एड्रेस पता चलता है, और इसके बाद रिक्वेस्ट main data सर्वर के पास जाती है जहा पर हमारी वेबसाइट का डाटा रखा होता है, तब जाकर हमारी वेबसाइट लोड होती है और हमें screen पर दिखाई देती है |

URL (Uniform Resource Locator): कोई भी वेब पेज को एक्सेस करने के लिए एक एड्रेस की जरुरत पड़ती है, दुनिया में फैले हुए सभी डाटा को एक्सेस करने के लिए WWW locators का concept यूज़ करता है | Standard URL की help से हम किसी भी तरह की इनफार्मेशन का पता कर सकते है जो कि इंटरनेट पर उपलब्ध है, URL में तीन चीज़े define होती है, Method , Host computer , and Pathname .

Method : यह डॉक्यूमेंट को retrieve करने लिए यूज़ किये जाने वाला protocol होता है | example के लिए Gopher , FTP , HTTP , news , TELNET , and etc.

Host : यह वह कंप्यूटर या सर्वर होता है जहां पर सारी information उपलब्ध रहती है|

Path : यह file का Pathname होता है जहां पर information रहती है |

You can also go through a few more amazing blog links below related to Computer Networks:

What is a domain name system with an example…
World Wide Web In Hindi…
The Leaky Bucket Algorithm In Hindi…
Difference between TCP and UDP In Hindi…
UDP: User Datagram Protocol…
How does Multicast routing work…
What is Unicast routing protocol…
Routing Algorithms In Computer Networks…
What is a routing table used for…
DNS(Domain Name Server or System) Server In Hindi…

इस ब्लॉग(What is the WWW in Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते a5theorys@gmail.com पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट ‘WWW In Hindi: World Wide Web In Hindi’ को खूब एन्जॉय किया होगा|What is the WWW in Hindi|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.