Bid Price And Ask Price In Hindi?|बिड और आस्क मूल्य में क्या अंतर है?

हेलो फ्रेंड्स, आज के इस ब्लॉग पोस्ट(Bid Price And Ask Price In Hindi) में मैं आपको शेयर मार्किट के अंतर्गत उपयोग होने वाले bid price और ask price के बारे में बताने वाला हूँ | दोस्तों शेयर मार्किट में ट्रेडिंग स्टार्ट करने से पहले हमें कुछ बेसिक चीज़ो का जरूर ज्ञान होना चाहिए जैसे कि lower circuit , upper circuit , bid price , ask price , market cap , volume , एंड etc.

और इन्ही बेसिक चीज़ो में हम आज आपको इस ब्लॉग पोस्ट(Bid Price And Ask Price In Hindi) के माध्यम से bid price और ask price के बारे में बताने वाले है |

हिंदी में bid को बोली बोलते है तो यहाँ पर कुछ ऐसा ही है stock को जब खरीदने के लिए बोली लगाई जाती है तब हम इसे bid price बोलते है और स्टॉक को जब बेचने के लिए बोली लगाई जाती है तब हम इसे ask price बोलते है |Bid Price And Ask Price In Hindi|

bid price वह प्राइस होती है जिस पर कोई buyer शेयर खरीदने के लिए तैयार होता है | और ask price वह प्राइस होती है जिस पर कोई seller अपने stock sell करने के लिए ready होता है |Bid Price And Ask Price In Hindi|

example के लिए मान लीजिये किसी स्टॉक ABC के लिए बिड प्राइस 5 रुपया पर बिड size 50 है इसका मतलब यह है कि 50 buyers है जो की 5 rupee में ABC के स्टॉक को खरीदने के लिए तैयार बैठे है |

इसी प्रकार अगर ask price 7 रुपया है और ask size 30 है तो इसका मतलब है की 30 लोग ABC stock को 7 रुपया में बेचने के लिए तैयार बैठे है |

तो यहाँ पर हम यह निष्कर्ष निकाल सकते है कि bid price best buy price होती है जिस पर buyers stock को buy करते है और ask price best sell price होती है जिस पर traders अपने stocks को sell करने के लिए ready रहते है |

ask price हमेशा bid price से ज्यादा ही होती अगर कुछ exception case को छोड़ दिया जाये तो |

किसी भी एक particular stock के लिए कई सारे bid price और ask price हो सकते है | जैसे कि लोग अलग अलग कीमत पर शेयर को खरीदने के लिए order प्लेस करते है और बेचने में भी लोग अलग अलग share price पर लोग आर्डर place करते है |

पर जब ऐसा होता है तो समझो शेयर की volatility अच्छी है और यहाँ पर कई सरे लोग शेयर को खरीद और बेंच रहे है |

अगर bid size अथवा bid volume बहुत अच्छा है और वह ask volume से अधिक है इसका मतलब है लोग खरीद ज्यादा रहे है, और ऐसे स्थिति में selling बहुत stronger हो जाती है और sell price gradually कम होने लगती है क्योकि लोग हमेशा share को कम दाम में खरीदना चाहते है |

और अगर ask volume bid volume से अधिक है इसका मतलब यह है की लोग बेच ज्यादा रहे है ऐसे स्थिति में buying काफी स्ट्रांग हो जाती पर यहां पर शेयर की कीमत धीरे धीरे बढ़ने लगती है क्योकि लोग अपने अपने शेयर को ऊँचे दामों में बेचने की कोशिश करते है |

तो bid price , bid volume और ask price , ask volume को देखकर हम मोटामोटी किसी भी स्टॉक की volatility का पता कर सकते है और उसी हिसाब से शेयर को बेंच और खरीद सकते है |

इसलिए अगर आप किसी भी स्टॉक को buy करने जा रहे है तो फिर आपको एक बार इसकी bid price और ask price volume के साथ जरूर देखनी है | और अगर यह volatile है मतलब की buyer भी है और seller भी है तो फिर इस स्टॉक को आप आराम से ले सकते है |

पर अगर आप stock को लम्बे समय के लिए होल्ड करने अथवा इन्वेस्ट करने के लिए buy कर रहे है तो फिर आपको कुछ और भी फैक्टर्स पर ध्यान देना होगा जैसे की कंपनी की reputation , मार्किट कैप, वॉल्यूम, company performance और stock performance in last five years |

Quick Q&A:

Should I buy at bid or ask price? बिड और आस्क प्राइस में से किस को बुय करना उचित है ?

देखिये bid price buyers की price होती है और ask price seller की प्राइस होती है | और यह हम जानते है की selling price हमेशा बिड प्राइस से जायदा होती है तभी प्रॉफिट होता है | तो वैसे अगर आप नार्मल ट्रेडिंग करते है तो पहले bid price को buy करेंगे और फिर बाद में उसको sell करेंगे | पर अगर आप short selling करना चाह रहे है तो फिर आप पहले ask price को buy करेंगे और बाद में उसे sell कर सकते है | कहने का मतलब पहले आप स्टॉक को sell करेंगे और फिर बाद में buy करेंगे |

What is the difference between the bid and ask price? bid price और ask price में क्या difference होता है ?

bid price वो maximum प्राइस होती है जो buyer किसी स्टॉक को buy करने के लिए pay करता है या pay करने के लिए ready रहता है | और इसी तरह ask price वो price होती है जो ट्रेडर अपने स्टॉक को sell करने के लिए लगाते है |

What is the offer price? offer price क्या होती है ?

offer price वो प्राइस होती है जिस पर कोई भी ट्रेडर किसी ब्रोकर से underlying assets खरीदने के लिए तैयार होता है |

आप share market से जुड़े हुए कुछ और अच्छे blog नीचे दी हुई ब्लॉग लिंक का उपयोग करके पढ़ सकते है:

SEBI NEW MARGIN RULES IN HINDI 2021…
Difference between Intraday trading and delivery trading…
Delivery Trading vs Intraday Trading In Hindi…
Top 5 Best Demat and Trading Account In India…
Trading In Share Market In Hindi…
Mutual Fund vs Share Market…
Difference between the mutual fund and share market In Hindi…
What Is Share Market In Hindi…
What Is Share Market…
What Is NIFTY And SENSEX In Hindi…
Difference between Equity and Derivatives in Hindi…
Forex Trading In India In Hindi…
Difference Between Futures And Options In Hindi…
After Market Order In Hindi…
What Is Stop Loss In Share Market In Hindi…
Lower Circuit And Upper Circuit In Hindi…
How To Convert Intraday Shares To Delivery In Hindi…
What Is Margin Trading In Hindi…

Conclusion:

तो दोस्तों इस blog post(Bid Price And Ask Price In Hindi) में हमने आपको bid price और ask price के बारे में हिंदी में विस्तार से समझाया है | bid price बेस्ट buying प्राइस होती है और ask price best selling price होती है | और जब यह प्राइस balanced रहती है तब stock सबसे ज्यादा volatile होता है | और अगर इनमे से कुछ एक भी बहुत ज्यादा बढ़ता है तो फिर यहाँ पर या तो upper circuit लग जाता है या फिर lower circuit लग जाता है |

इस ब्लॉग(Bid Price And Ask Price In Hindi) को लेकर आपके मन में कोई भी प्रश्न है तो आप हमें इस पते [email protected]पर ईमेल लिख सकते है|

आशा करता हूँ, कि आपने इस पोस्ट Bid Price And Ask Price In Hindi को खूब एन्जॉय किया होगा|

आप स्वतंत्रता पूर्वक अपना बहुमूल्य फीडबैक और कमेंट यहाँ पर दे सकते है|Bid Price And Ask Price In Hindi|

आपका समय शुभ हो|

Anurag

I am a blogger by passion, a software engineer by profession, a singer by consideration and rest of things that I do is for my destination.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *